लाइव टीवी

महाराष्ट्र चुनाव 2019: मुंबई BJP अध्यक्ष ने 1993 धमाकों से जोड़ा एक क्षेत्र का नाम, ईसी ने जारी किया नोटिस

News18Hindi
Updated: October 18, 2019, 12:57 PM IST
महाराष्ट्र चुनाव 2019: मुंबई BJP अध्यक्ष ने 1993 धमाकों से जोड़ा एक क्षेत्र का नाम, ईसी ने जारी किया नोटिस
मुंबई भाजपा प्रमुख मंगल प्रभात लोढ़ा ने एक चुनावी रैली में कथित रूप से एक इलाके को समुदाय विशेष का क्षेत्र बता दिया. (फाइल फोटो)

मुंबादेवी सीट से शिवसेना उम्मीदवार पांडुरांग सकपाल के लिए प्रचार करते हुए मंगल प्रभात लोढ़ा (Mangal Prabhat Lodha) ने एक चुनावी रैली में 1993 बम धमाकों को कथित रूप से अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र से जोड़ दिया. कथित भड़काऊ प्रचार के बाद चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस जारी कर जवाब देने को कहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2019, 12:57 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 (Maharashtra Assembly Election 2019) के लिए प्रचार का दौर अंतिम चरण में है. ऐसे में नेता वोटरों को रिझाने के लिए बढ़-चढ़कर बयानबाजी कर रहे हैं. इस कड़ी में मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष (Mumbai BJP President) मंगल प्रभात लोढ़ा (Mangal Prabhat Lodha) ने एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए 1993 बम धमाकों को कथित रूप से अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र से जोड़ दिया. इसके बाद चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस जारी कर जवाब देने को कहा है. बता दें कि मुंबई में 1993 में हुए सिलसिलेवार बम धमाके और दंगे हुए थे.

ऑडियो क्लिप में सुना जा सकता है बयान
लोढ़ा दो दिन पहले मध्य मुंबई की मुंबादेवी विधानसभा सीट से शिवसेना उम्मीदवार पंडुरांग सकपाल के लिए चुनाव प्रचार कर रहे थे. एक ऑडियो क्लिप में कथित भाषण में वो यह कहते हुए सुनाई दे रहे हैं कि, ‘1992 के दंगों में याद कीजिए, जब धमाके हुए और गोलियां चलीं, वो यहां से महज पांच किलोमीटर दूर स्थित गलियों से चली थीं.’


Loading...

उनके वोटों से जीतने वाला व्यक्ति आपकी सहायता के लिए कैसे आएगा?
मुंबई में 1993 में दंगों के बाद हुए सिलसिलेवार बम धमाकों में 250 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. मंगल प्रभात लोढ़ा कांग्रेस उम्मीदवार अमीन पटेल का नाम लिए बिना कथित रूप से यह कहते पाए गए कि, 'उनके वोटों से जीतने वाला व्यक्ति आपकी सहायता के लिए कैसे आएगा?' बता दें कि मुंबादेवी विधानसभा क्षेत्र में डोंगरी और नागपाड़ा जैसे इलाके शामिल हैं जिनमें अल्पसंख्यकों की आबादी बहुत ज्यादा है.

लगता है कि जैसे इन क्षेत्रों को विशेष समुदाय को कर दिया गया है आवंटित
मंगल प्रभात लोढ़ा ने आगे कहा कि, 'यहां पुरानी इमारतों के ढहने के बाद, निवासियों को मानखुर्द और धारावी में स्थानांतरित (ट्रांसफर) कर दिया गया. ऐसा लगता है कि जैसे इन क्षेत्रों (मानखुर्द और धारावी) को एक विशेष समुदाय को आवंटित कर दिया गया है, लेकिन हिंदू-मराठी भाइयों को दूर-दराज के इलाकों में स्थित शिविर में जाना पड़ता है.'

ये भी पढ़ें - 

करवा चौथ का व्रत खोलने का कर रही थी इंतजार, पति आया और कुल्हाड़ी से काट दिया

होशंगाबाद में अनियंत्रित होकर पलटी स्कूल बस, दुर्घटना में 22 स्कूली बच्चे घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 11:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...