मिसाल: मु्ंबई के इस कपल ने अपनी शादी पर कोरोना मरीजों के लिए दान किए 50 बेड
Mumbai News in Hindi

मिसाल: मु्ंबई के इस कपल ने अपनी शादी पर कोरोना मरीजों के लिए दान किए 50 बेड
मुंबई के एक कपल ने अपनी शादी के दिन कोरोना मरीजों के लिए 50 बेद दान में दिए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुंबई (Mumbai) के वसई इलाके में रहने वाले इस कपल (Couple) का नाम एरिक और मर्लिन है. दोनों ने पहले चर्च में शादी की और फिर उसके बाद कोविड सेंटर जाकर 50 बेड दान (50 Bed Donated) किए.

  • Share this:
मुंबई. भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए मार्च में शुरू हुए लॉकडाउन (Lockdown) के बाद मानवीय मूल्य प्रदर्शित करती कई खबरें सामने आई हैं. लोगों ने इस महामारी के दौरान बढ़-चढ़कर दूसरों की मदद के लिए हाथ बढ़ाए हैं. ऐसी ही एक और खबर बुधवार को भी आई. मुंबई के एक कपल (Mumbai Couple) ने अपनी शादी के उपलक्ष्य में एक कोविड सेंटर (Covid-19 Centre) को 50 बेड दान किए हैं.

मुंबई के वसई इलाके में रहने वाले इस कपल का नाम एरिक और मर्लिन है. दोनों ने पहले चर्च में शादी की और फिर उसके बाद कोविड सेंटर जाकर 50 बेड दान किए. कपल का मानना है कि उनकी शादी पर दुनिया को इससे बेहतर क्या गिफ्ट हो सकता है कि बीमार लोगों का खयाल रखा जा सके.

मुंबई में कम हुए कोरोना के नए मामले
गौरतलब है कि बीते दो महीनों से कोरोना वायरस से बुरी तरह जूझ रहे मुंबई में जून महीने के तीन सप्ताह के दौरान थोड़ी राहत देखने को मिली है. रोज आने वाले नए कोरोना मामलों में लगातार कमी दर्ज की गई है. अप्रैल महीने की शुरुआत से ही महाराष्ट्र भारत का सर्वाधिक प्रभावित राज्य बना रहा है. राज्य में भी सबसे ज्यादा असर मुंबई शहर में रहा है.





भारत की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले मुंबई में लॉकडाउन के बाद बड़ी संख्या में अप्रवासी मजदूरों को अपने घरों की तरफ वापस लौटना पड़ा है. महाराष्ट्र में कोरोना के अब तक 1,39,010 मामले सामने आ चुके हैं. हालांकि इनमें 69,631 मामले ठीक भी हो चुके हैं. वर्तमान में एक्टिव केस की संख्या 62,848 है. राज्य में कोरोना से 6,531 लोगों ने जान गंवाई है.

मानवता की कई मिसालें
गौरतलब है कि लॉकडाउन के बीच देशभर से कई ऐसी खबरें आई है जिनमें लोग एक दूसरे की मदद करते देखे गए हैं. एक ऐसी ही खबर गुजरात से भी आई थी. गुजरात के सूरत शहर में एक एनजीओ ने अप्रवासी मजदूरों को खाना खिलाने का बीड़ा उठाया. बड़ी संख्या में आम लोगों को शामिल करके ये एनजीओ रोज करीब एक लाख रोटियों का वितरण अप्रवासी मजदूरों के बीच करता रहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading