Home /News /maharashtra /

mumbai kurla 4 storey building collapsed rescue operation continue

मुंबईः कुर्ला में 4 मंजिला इमारत ढही, 3 लोगों की मौत, लोगों को निकालने में जुटी NDRF की टीम

मुंबई के कुर्ला इलाके में मंगलवार को चार मंजिला इमारत ढह गई. (फोटो-ANI)

मुंबई के कुर्ला इलाके में मंगलवार को चार मंजिला इमारत ढह गई. (फोटो-ANI)

अधिकारी ने बताया कि दमकल कर्मी मलबे में फंसे अन्य लोगों की तलाश के लिए बचाव एवं तलाश अभियान चला रहे हैं. उन्होंने बताया कि घटना की सूचना मिलने के बाद दमकल कर्मियों के मौके पर पहुंचने पर स्थानीय लोगों ने उन्हें मलबे में 20 से 22 लोगों के फंसे होने की जानकारी दी.

अधिक पढ़ें ...

मुंबई. मुंबई में सोमवार देर रात चार मंजिला आवासीय इमारत ढहने से तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि 13 अन्य लोग घायल हुए हैं. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि कुर्ला की नाइक नगर सोसायटी में स्थित आवासीय इमारत का एक ‘विंग’ सोमवार देर रात ढह गया. उसके नजदीक स्थित दूसरे ‘विंग’ के गिरने की आशंका भी बनी हुई है. उन्होंने बताया कि घायलों को घाटकोपर तथा सायन के सरकारी अस्पतालों में भर्ती कराया गया हे. बृहन्मुंबई महानगर निगम (बीएमसी) के आयुक्त इकबाल सिंह चहल ने बताया कि तीन लोगों की मौत हो गई है और चार को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जबकि नौ अन्य लोगों को प्राथमिक उपचार देने के बाद छुट्टी दे दी गई.

चहल ने बताया कि दमकल विभाग के अनुसार, इमारत के मलबे में सात-आठ लोग ही फंसे हुए थे, जबकि पुलिस को संदेह है कि मलबे के नीचे और लोग हो सकते हैं. चहल ने कहा, ‘‘ मैंने दमकल विभाग और एनडीआरएफ से सावधानी से (खोज एवं बचाव) अभियान चलाने का आह्वान किया है, क्योंकि मलबे के नीचे अब भी कुछ और जिंदा लोग हो सकते हैं.’’ राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के एक दल ने मलबे में फंसी एक महिला को जिंदा बाहर निकाला है.

अधिकारी ने बताया कि दमकल कर्मी मलबे में फंसे अन्य लोगों की तलाश के लिए बचाव एवं तलाश अभियान चला रहे हैं. उन्होंने बताया कि घटना की सूचना मिलने के बाद दमकल कर्मियों के मौके पर पहुंचने पर स्थानीय लोगों ने उन्हें मलबे में 20 से 22 लोगों के फंसे होने की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि दमकल की करीब 12 गाड़ियों के अलावा, दो बचाव वैन मौके पर तैनात है. दमकल विभाग और एनडीआरएफ के दल नगर निकाय के कर्मचारियों और पुलिस के साथ घटनास्थल पर खोज एवं बचाव अभियान को अंजाम दे रहे हैं.

एनडीआरएफ के कमांडेंट अनुपम श्रीवास्तव ने बताया कि उनके दो दल खोज एवं बचाव कार्य में जुटे हैं. नगर निगम के एक अधिकारी ने बताया कि ढह गए ‘विंग’ के नजदीक स्थित एक अन्य ‘विंग’ के गिरने की आशंका भी बनी हुई है और वहां से लोगों को निकाल लिया गया है. अतिरिक्त नगर आयुक्त अश्विनी भिड़े ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि बृहन्मुंबई महानगर निगम (बीएमसी) ने मुंबई नगर निगम अधिनियम के प्रावधानों के तहत 2013 से कई बार इस इमारत की मरम्मत कराने के लिए, फिर उसे खाली करने और गिराने के लिए नोटिस जारी किए.

खोज एवं बचाव अभियान का मुआयना करने मंगलवार को घटनास्थल पर पहुंचे अधिकारी ने कहा, ‘‘ यहां तक कि नियमों का पालन ना करने वालों के खिलाफ मुकदमा भी शुरू किया गया. बाद में, इमारत में रहने वाले लोगों ने संरचनात्मक ‘ऑडिट’ फिर से करवाया और भवन को मरम्मत करने के लायक होने की श्रेणी में डाला गया, लेकिन मरम्मत नहीं कराई गई.’’ भिड़े ने बताया कि बीएमसी द्वारा इमारत खाली करने की लगातार कोशिशों के बावजूद लोग वहां रहते रहे। इमारत के निवासियों ने एक हलफनामा दिया था कि वे अपने जोखिम पर वहां रहेंगे. महाराष्ट्र के पर्यावरण एवं पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे ने भी घटनास्थल का दौरा किया और खोज एवं बचाव अभियान की समीक्षा की.

इस महीने महानगर में इमारत गिरने की यह तीसरी बड़ी घटना है. 23 जून को चेंबूर इलाके में दो मंजिला औद्योगिक ढांचे का एक हिस्सा गिरने से 22 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और 10 अन्य घायल हुए थे. नौ जून को उपनगरीय बांद्रा में तीन मंजिला आवासीय इमारत गिर गई थी, जिसमें 55 वर्षीय एक व्यक्ति की मौत हो गई थी और 18 अन्य लोग घायल हुए थे.

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक घटनास्थल पर 12 दमकल की गाड़ियां, दो रेस्क्यू वैन और 6 एंबुलेंस घटनास्थल पर पहुंची. इसके अलावा 5 जेसीबी भी भेजी गई. सोमवार की रात को महाराष्ट्र सरकार में मंत्री आदित्य ठाकरे घटनास्थल पर पहुंचे. उन्होंने कहा कि बीएमसी के दिये गए नोटिस के आधार पर इस तरह के मकान को तुरंत खाली करना चाहिए. जब भी बीएमसी नोटिस जारी करे. अपने आप बिल्डिंग खाली कर देनी चाहिए. अन्यथा इस तरह के हादसे होते रहेंगे, जो दुर्भाग्यपूर्ण है. कुर्ला इमारत हादसे के बाद आस-पास की जर्जर इमारतों को भी बीएमसी ने खाली करा दिया है. जो इमारत गिरी है, उसके बगल में दो जर्जर इमारतें हैं, उनमें एक-दो परिवार अभी भी रह रहा था. उन्हें भी हटाया गया है. इन दोनों इमारतों को दस्तावेज पूरा करने के बाद बीएमसी ने तोड़ने का फैसला किया है.

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर