लाइव टीवी

समर्थन के बदले NCP ने रखी शर्त- NDA से बाहर हो शिवसेना, केंद्र से इस्तीफा दें मंत्री

News18Hindi
Updated: November 10, 2019, 11:35 PM IST
समर्थन के बदले NCP ने रखी शर्त- NDA से बाहर हो शिवसेना, केंद्र से इस्तीफा दें मंत्री
इस शर्त पर शिवसेना को समर्थन देगी एनसीपी

एनसीपी बोली- अगर शिवसेना हमारा समर्थन चाहती है, तो उन्हें यह घोषणा करनी होगी कि उनका बीजेपी (BJP) के साथ कोई संबंध नहीं है और उन्हें राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) से बाहर होना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2019, 11:35 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने को लेकर अभी भी सस्पेंस बरकरार है. जहां खबर आ रही थी कि बीजेपी (BJP) के सरकार बनाने से इनकार के बाद एनसीपी (NCP), शिवसेना (Shiv Sena) को सपोर्ट करने के लिए तैयार है. वहीं अब इसमें भी ट्विस्ट आ गया है. खबर है कि एनसीपी ने शिवसेना के सामने समर्थन देने के लिए शर्त रखी है. एनसीपी ने कहा है कि उसे बीजेपी से नाता तोड़ना पड़ेगा.

NCP ने रखी ये शर्त
एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि हमने 12 नवंबर को अपने विधायकों की बैठक बुलाई है. अगर शिवसेना हमारा समर्थन चाहती है, तो उन्हें यह घोषणा करनी होगी कि उनका बीजेपी के साथ कोई संबंध नहीं है और उन्हें राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) से बाहर होना चाहिए. उनके सभी मंत्रियों को केंद्रीय मंत्रिमंडल (केंद्र) से इस्तीफा देना होगा.

खबर ये भी है कि एनसीपी, शिवसेना के साथ कॉमन मिनिमम प्रोग्राम बनाएगी, जिसमें ये तय होगा कि सरकार चलाने के लिए किन मुद्दों पर साथ आया जाए. एनसीपी ने शिवसेना के सामने बीजेपी से पूरी तरह अलग होने की शर्त रखी है, इसके बाद ही एनसीपी, शिवसेना को सपोर्ट करेगी.

मीडिया से बात करते एनसीपी नेता नवाब मलिक (Photo- ANI)


राउत ने कहा- शिवसेना का ही होगा CM
वहीं महाराष्ट्र में सरकार नहीं बनाने की बीजेपी की घोषणा पर शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा कि पार्टी किसी भी कीमत पर राज्य में अपना मुख्यमंत्री बनाएगी. राउत ने मीडिया से कहा, ‘महाराष्ट्र में किसी भी कीमत पर शिवसेना का मुख्यमंत्री बनेगा. उद्धव ठाकरे ने रविवार को पार्टी विधायकों से कहा कि मुख्यमंत्री शिवसेना का ही बनेगा.’
Loading...

राष्ट्रपति शासन नहीं चाहती कांग्रेस
रविवार को चली इस सियासी हलचल में कांग्रेस ने कहा कि वह राज्य में राष्ट्रपति शासन नहीं चाहती है. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि पार्टी के नव-निर्वाचित विधायक राज्य में राजनीतिक रुख को लेकर आला-कमान से सलाह लेंगे. उन्होंने मीडिया से कहा, ‘हम जयपुर में हैं. हम मुद्दे पर यहां चर्चा करेंगे और भविष्य के राजनीतिक रूख पर सलाह लेंगे. पार्टी राज्य में राष्ट्रपति शासन नहीं चाहती है.’ चव्हाण ने कहा कि वह महाराष्ट्र में सरकार बनाने के पक्ष में हैं.

ये भी पढ़ें: 

महाराष्‍ट्र: शिवसेना को सरकार बनाने का न्‍योता, कल शाम 7:30 बजे मिलने का समय

महाराष्ट्र LIVE: शिवसेना को समर्थन देने के पक्ष में कांग्रेस, फैसला आलाकमान पर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 10, 2019, 9:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...