लाइव टीवी
Elec-widget

'रात 12 बजे अजित पवार का फोन आया, कहा- धनंजय मुंडे के आवास पर चलना है'

News18Hindi
Updated: November 23, 2019, 8:50 PM IST
'रात 12 बजे अजित पवार का फोन आया, कहा- धनंजय मुंडे के आवास पर चलना है'
राजेंद्र शिंगणे ने कहा, ‘अजित पवार के बुलाने के बाद कुछ गलतफहमी के चलते यह सब हुआ.’ (File Photo)

एनसीपी-कांग्रेस (NCP-Congress) और शिवेसना (Shivsena) की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में एनसीपी के वे विधायक भी पहुंचे, जो शपथ ग्रहण के वक्त राजभवन में मौजूद थे. इन विधायकों ने मीडिया के सामने अपनी बात रखी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 23, 2019, 8:50 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने अजित पवार (Ajit Pawar) के समर्थन से सरकार बना ली है. देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) एक बार फिर से सूबे के सीएम बन गए हैं और अजित पवार (Ajit Pawar) ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली है. इसके बाद से महाराष्ट्र में सियासी हलचल तेज हो गई है. एनसीपी-कांग्रेस और शिवेसना से एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी (BJP) पर हमला बोला. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में एनसीपी के वे विधायक भी पहुंचे, जो शपथ ग्रहण के वक्त राजभवन में मौजूद थे. इन विधायकों ने मीडिया के सामने अपनी बात रखते हुए कहा कि रात 12 बजे उन्हें अजित पवार का कॉल आया था, उनसे कहा गया था कि सुबह 7 बजे धनंजय मुंडे (Dhananjay Munde) के आवास पर चलना है.

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद विधायकों-बुलढाणा से राजेंद्र शिंगणे और बीड से संदीप क्षीरसागर ने कहा, 'रात 12 बजे उन्हें अजित पवार का फोन कॉल आया, जिसमें उनसे पार्टी के नेता धनंजय मुंडे के आवास पर सुबह 7 बजे आने को कहा गया.' दोनों विधायकों ने कहा कि इसके बाद उन्हें राजभवन ले जाया गया. उन्होंने बताया, ‘इससे पहले कि उन्हें कुछ आभास हो पाता, हमने देखा कि देवेंद्र फड़णवीस और अजित पवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी शपथ ग्रहण करा रहे हैं.’

'अजित पवार के बुलाने के बाद कुछ गलतफहमी के चलते यह सब हुआ'
शिंगणे ने कहा, ‘जब मैं राजभवन पहुंचा, तो पाया कि आठ-10 विधायक पहले से वहां मौजूद हैं. हममें से किसी ने महसूस नहीं किया कि हमें वहां क्यों लाया गया. शपथ ग्रहण के बाद हम (शरद) पवार साहेब से मिलने गए.’

राजेंद्र शिंगणे ने कहा, ‘अजित पवार के बुलाने के बाद कुछ गलतफहमी के चलते यह सब हुआ.’ मावल से एनसीपी विधायक सुनिल शेल्के प्रेस कॉन्फ्रेंस खत्म होने के बाद वहां पहुंचे.

..तो राज्यपाल को किया गया मुमराह: पवार
वहीं मीडिया से बात करते हुए शरद पवार ने कहा, ‘एनसीपी का विधायक दल का नेता होने के नाते अजित पवार के पास आंतरिक उद्देश्यों के लिए सभी 54 विधायकों के नाम, हस्ताक्षर और निर्वाचन क्षेत्रों के साथ सूची थी. मुझे लगता है कि उन्होंने यह सूची समर्थन पत्र के रूप में राज्यपाल को सौंपी होगी. अगर यह सच है तो राज्यपाल को भी गुमराह किया गया है.’
Loading...

कौन हैं धनंजय मुंडे
धनंजय मुंडे बीजेपी के पूर्व दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे के भतीजे और बीजेपी नेता पंकजा मुंडे के चचेरे भाई हैं. धनंजय मुंडे ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत बीजेपी युवा मोर्चा से शुरू की थी. इसके बाद साल 2012 में उन्होंने ज्वॉइन कर ली. पंकजा बीजेपी की पिछली सरकार में मंत्री रह चुकी हैं. इस बार के विधानसभा चुनाव में धनंजय मुंडे ने अपनी चचेरी बहन पंकजा मुंडे को पराली विधानसभा में करीब 30 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था.

ये भी पढ़ें-

महाराष्ट्र की सियासत के 12 घंटेः कुछ यूं बदला सत्ता का समीकरण और भाजपा ने मारी 'बाजी'

शिवसेना के विधायकों से बोले उद्धव ठाकरे- कोई हिम्मत न हारे, हम ही बनाएंगे सरकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 23, 2019, 7:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...