ड्रग्स मामले में निलंबित IPS अधिकारी साजी मोहन को 15 साल की सजा

Vivek Gupta | News18Hindi
Updated: August 20, 2019, 12:05 AM IST
ड्रग्स मामले में निलंबित IPS अधिकारी साजी मोहन को 15 साल की सजा
निलंबित आईपीएस अधिकारी साजी मोहन

चंडीगढ़‌‌ के नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (Narcotics Control Bureau) के‌ पूर्व ज्वाईंट डायरेक्टर और निलंबित आईपीएस अधिकारी साजी मोहन‌ (Saji Mohan) को मुंबई के एनडीपीएस कोर्ट ने 15 साल की‌ सजा सुनाई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2019, 12:05 AM IST
  • Share this:
चंडीगढ़‌‌ के नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (Narcotics Control Bureau) के‌ पूर्व ज्वाईंट डायरेक्टर और निलंबित आईपीएस अधिकारी साजी मोहन‌ (Saji Mohan) को मुंबई के एनडीपीएस कोर्ट ने 15 साल की‌ सजा सुनाई है. एनडीपीएस कोर्ट ने साजी मोहन के अलावा उनके बॉडी गार्ड को भी कोर्ट ने दोषी ठहराया है, जबकि एक अन्य आरोपी को दोषमुक्त कर दिया गया है. साजी को 15 साल और उनके बॉडीगार्ड राजेश कुमार को 10 साल की सजा सुनाई गई है.

साजी मोहन‌ को 2009 में‌ महाराष्ट्र एटीएस ने ड्रग्स रैकेट चलाने के आरोप में गिरफ्तार किया था. एटीएस ने साजी मोहन के ठिकानों से 40 किलोग्राम ड्रग्स जब्त होने का दावा किया था. दस सालों से साजी मोहन मु़ंबई की‌ आर्थर रोड जेल में बंद है. इस मामले में एटीएस ने तीन‌ लोगों को गिरफ्तार किया था, जिसमें‌ साजी‌ का‌ बॉडी गार्ड भी शामिल था.

इस तरह रंगे हाथों पकड़ा गया साजी मोहन
2009 में महाराष्ट्र एटीएस को जानकारी मिली कि मुंबई में एक बडे ड्रग्स की‌ खेप आने वाली है. इसी‌ जानकारी के आधार पर एटीएस ने‌ जाल बिछाकर एक ड्रग्स तस्कर को गिरफ्तार किया. उसकी पूछताछ में पता चला कि ड्रग्स का यह काला खेल काफी बड़ा है. पूछताछ में साजी‌ मोहन के नाम का खुलासा होता है, पर एक‌ आईपीएस अधिकारी पर हाथ डालना इतना आसान नहीं था. इसके‌ लिए एटीएस ने कई दिनों‌ तक साजी मोहन‌ पर नजर रखी और‌ मौकै पाते ही पुलिस ने एक फर्जी ग्राहक बन कर बड़ी मात्रा में ड्रग्स की एक डील फिक्स की और एटीएस के इस जाल में साजी मोहन रंगे हाथों पकड़ा गया.

बड़ी डील के‌ चक्कर में फंस गया साजी मोहन‌
एटीएस अधिकारियों‌ का‌ मानना है‌ कि छापेमारी के‌ दौरान‌ साजी मोहन‌ के‌ ठिकानों से 40 किलोग्राम से‌ ज्यादा ड्रग्स‌ जब्त की गई. बताया‌ जा रहा है कि मुंबई में यह ड्रग्स बॉलीवुड और बड़ी पार्टियों में इस्तेमाल होने वाली थी. इस मामले में साजी‌ मोहन का‌ ड्राईवर और बॉडी गार्ड, हरियाणा के पुलिस कॉन्स्टेबल को भी एटीएस ने गिरफ्तार किया था. पुलिस‌ के मुताबिक साजी का‌ पूरा ड्रग्स का‌ काला खेल वो खेलता था, जिससे साजी‌ मोहन‌ पुलिस‌ की नजर से‌ दूर रहे सके लेकिन‌ बड़ी डील के‌ चक्कर में साजी मोहन‌ फंस गया. यह सारा‌ ड्रग्स अफगानिस्तान के‌ रास्ते जम्मू में आता था और वहां से‌ पूरे‌ देश में जाता था. दस‌ साल जेल में रहने के बाद मंगलवार को कोर्ट ने साजी‌ मोहन को 15 साल उसके बॉडी गार्ड को 10 साल की कैद की सजा सुनाई है.

ये भी पढ़ें-
Loading...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 4:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...