सिर्फ 'जिहाद' के इस्तेमाल पर किसी को आतंकवादी नहीं कहा जा सकता: कोर्ट

आतंकवाद रोधी दस्ता (एटीएस) ने दावा किया कि ये लोग मुस्लिम युवाओं को आतंकी संगठनों में शामिल होने के लिए प्रभावित करने के आरोपी थे.

News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 7:06 PM IST
सिर्फ 'जिहाद' के इस्तेमाल पर किसी को आतंकवादी नहीं कहा जा सकता: कोर्ट
जज ने इस बात का जिक्र किया कि ‘जिहाद’ अरबी भाषा का एक शब्द है. (Demo Pic)
News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 7:06 PM IST
महाराष्ट्र की एक अदालत ने आतंक के आरोपियों को बरी करते हुए कहा है कि महज ‘जिहाद’ शब्द का इस्तेमाल करने को लेकर किसी व्यक्ति को आतंकवादी नहीं कहा जा सकता है. अकोला स्थित अदालत के विशेष न्यायाधीश एएस जाधव ने गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (यूएपीए), शस्त्र अधिनियम और बॉम्बे पुलिस एक्ट के तहत तीन आरोपियों के खिलाफ एक मामले में यह टिप्पणी की.

अकोला के पुसाद इलाके में 25 सितंबर 2015 को बकरीद के मौके पर एक मस्जिद के बाहर पुलिसकर्मियों पर हमले के बाद अब्दुल रजाक (24), शोएब खान (24) और सलीम मलिक (26) पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था.

दर्ज केस के मुताबिक, रजाक मस्जिद पहुंचा और एक चाकू निकालकर उसने ड्यूटी पर मौजूद दो पुलिसकर्मियों पर वार कर दिया था. रजाक ने हमले से पहले जिहाद शब्द का इस्तेमाल करते हुए कहा था कि वो बीफ पर पाबंदी के कारण पुलिसकर्मियों को मार डालेगा.


‘जिहाद’ शब्द के इस्तेमाल पर आतंकवादी करार देना ठीक नहीं

आतंकवाद रोधी दस्ता (एटीएस) ने दावा किया कि ये लोग मुस्लिम युवाओं को आतंकी संगठनों में शामिल होने के लिए प्रभावित करने के आरोपी थे. न्यायाधीश एएस जाधव ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा, ‘यह प्रतीत होता है कि आरोपी रजाक ने गौ-हत्या पर पाबंदी को लेकर हिंसा के जरिए सरकार और कुछ हिंदू संगठनों के खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर किया.’ उन्होंने कहा, ‘बेशक उसने ‘जिहाद’ शब्द का इस्तेमाल किया. लेकिन इस निष्कर्ष पर पहुंचना ठीक नहीं होगा कि महज ‘जिहाद’ शब्द का इस्तेमाल करने पर उसे आतंकवादी करार देना चाहिए.’

‘जिहाद’ का अर्थ संघर्ष करना
उन्होंने इस बात का जिक्र किया कि ‘जिहाद’ अरबी भाषा का एक शब्द है. जिसका अर्थ ‘संघर्ष’ करना है. इसलिए महज जिहाद शब्द का इस्तेमाल करने को लेकर उसे आतंकवादी बताया जाना उचित नहीं है. पुलिसकर्मियों को चोट पहुंचाने को लेकर रजाक को दोषी ठहराते हुए तीन साल कैद की सजा सुनाई गई थी. चूंकि, वह 25 सितंबर 2015 से जेल में था और कैद में तीन साल गुजार चुका है इसलिए अदालती आदेश के बार रिहा कर दिया गया.
Loading...

ये भी पढ़ें--

मुंबई स्पेशल कोर्ट ने भगोड़े जाकिर नाईक को बड़ा झटका

NSUI का ऐलान, DU में एडमिशन लेने वाले शहीद जवानों के बच्चों की फीस भरेगा संगठन
First published: June 19, 2019, 6:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...