लाइव टीवी

मुंबई की सड़कों से 2020 में गायब हो जाएगी 'पद्मिनी टैक्सी', ये है वजह

एएनआई
Updated: October 12, 2019, 2:23 PM IST
मुंबई की सड़कों से 2020 में गायब हो जाएगी 'पद्मिनी टैक्सी', ये है वजह
मुंबई की हमसफर कही जाने वाली पद्मिनी टैक्सी.

साल 1964 में फ़िएट ने स्वदेशी वर्जन के तौर पर फिएट 100 डिलाइट (Fiat 1100 Delight) को बाज़ार में उतारा था. लॉन्चिंग के एक साल बाद ही इसका नाम बदलकर प्रीमियर प्रेसिडेंट (Premier President) कर दिया गया.

  • Share this:
मुंबई. मुंबई (Mumbai) की सड़कों पर दौड़ने वाली काले और पीले रंग की पद्मिनी टैक्सी (Padmini Taxi) 2020 में सड़कों से गायब होने वाली हैं. आइकॉनिक इंडो-इटालियन मॉडल की प्रीमियर पद्मिनी टैक्सी का प्रोडक्शन साल 2000 में ही बंद हो गया था. इसके बाद से मात्र 50 हजार टैक्सियां ही मुंबई की सड़कों पर दौड़ रही हैं. ताजा जानकारी के अनुसार जून 2020 में मुंबई (Mumbai) की सड़कों पर पद्मिनी टैक्सी चलनी बंद हो जाएंगी.

मुंबई टैक्सी यूनियन ने यह कहा
इस बारे में मुंबई टैक्सी यूनियन (Mumbai Taxi Union) ने कहा कि पद्मिनी अपने जमाने की एक प्रतिष्ठित कार है लेकिन नई पीढ़ी के लोग अब इसमें बैठना नहीं चाहते हैं. क्योंकि वो नई तकनीक की मॉडर्न कार पसंद करते हैं. यूनियन ने कहा कि समय के साथ बढ़ती महंगाई में इन कारों का रख रखाव काफी महंगा हो गया है.

1964 में बाजार में आई थी पद्मिनी टैक्सी

साल 1964 में फ़िएट ने स्वदेशी वर्जन के तौर पर फिएट 100 डिलाइट (Fiat 1100 Delight) को बाज़ार में उतारा था. लॉन्चिंग के एक साल बाद ही इसका नाम बदलकर प्रीमियर प्रेसिडेंट (Premier President) कर दिया गया. साल 1974 में एक बार फ़िर से इसका नाम रानी पद्मिनी के नाम पर प्रीमियर पद्मिनी (Premier Padmini) कर दिया गया था.

मुंबई में आज भी हर शख़्स का सामना सबसे काले और पीले रंग की पद्मिनी से ही होता है. एक समय पद्मिनी लोगों की पहली पसंद होती थी क्योंकि इसके अंदर बैठने के लिए काफ़ी जगह होती थी और छत पर सामान रखने के लिए कैरियर लगा होता था. साठ के दशक में दिल्ली और कोलकाता में एम्बेसडर कार का वर्चस्व था. तब मुंबई वासियों ने 'एम्बेसडर' के बजाए 'पद्मिनी टैक्सी' को तरजीह दी थी. मुंबई में चार दशकों तक पद्मिनी ने लोगों के दिलों में राज किया.

साल 1911 में 'पद्मिनी टैक्सी' ने विक्टोरिया बग्घी को रिप्लेस कर कई दशकों तक अपना वर्चस्व कायम रखा. 'मुंबई टैक्सी यूनियन' के नेता ए एल क्वाड्रोस का कहना है कि, इन टैक्सियों ने दशकों तक मुंबईकर के दिलों पर राज किया. हर दिन लाखों लोगों को उनकी मंज़िल तक पहुंचाया.
Loading...

ये भी पढ़ें- महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019: कांग्रेस ने मजीद कुरैशी को पार्टी से किया बाहर, कर रहे थे ये काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 12, 2019, 2:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...