लाइव टीवी

मुंबई में CAA के समर्थन में रैली, देवेंद्र फडणवीस बोले- सत्ता के लालच ने शिवसेना को गूंगा बना दिया
Mumbai News in Hindi

News18Hindi
Updated: December 27, 2019, 11:07 PM IST
मुंबई में CAA के समर्थन में रैली, देवेंद्र फडणवीस बोले- सत्ता के लालच ने शिवसेना को गूंगा बना दिया
अगस्त क्रांति मैदान में नागरिकता कानून के समर्थन में हुई रैली में देवेंद्र फडणवीस भी शामिल हुए.

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन जारी है. वहीं, कई जगह नागरिकता कानून के समर्थन में रैली भी हो रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 27, 2019, 11:07 PM IST
  • Share this:
मुंबई. नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन जारी है. वहीं, शुक्रवार को मुंबई (Mumbai) के ऐतिहासिक अगस्त क्रांति मैदान (August Kranti Maidan) में नागरिकता कानून के समर्थन में रैली जारी है. इस रैली में महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) भी शामिल हुए. दूसरी ओर आजाद मैदान (Azad Maidan) में नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है. महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि लोगों की बड़ी उपस्थिति कानून को बड़े पैमाने पर समर्थन का संकेत देती है.

फडणवीस ने कहा, 'विपक्षी पार्टियां अफवाह और गलत सूचना (सीएए, एनआरसी के बारे में) फैला रही हैं. रैली में भाग लेने से पहले पत्रकारों से बातचीत करते हुए फडणवीस ने विपक्ष पर भारतीय मुसलमानों को गुमराह करने का आरोप लगाया. फडणवीस ने आगे शिवसेना पर हमला बोलते हुए कहा कि कल तक शिवसेना भी कह रही थी कि बांग्लादेशियों को बाहर निकाला जाए, लेकिन सत्ता के लालच ने उन्हें गूंगा बना दिया है. उन्होंने कहा कि सत्ता आनी-जानी है, लेकिन राष्ट्र हमेशा रहना चाहिए. हम सत्ता की कुर्सी को लात मार देंगे, लेकिन अपने राष्ट्र से कभी भी और कैसा भी समझौता नहीं करेंगे.

फडणवीस का ट्वीट
फडणवीस ने ट्वीट के जरिये कहा कि ऐसा लगता है कि महाराष्ट्र सरकार ने अपने दिमाग और इंद्रियों को खो दिया है. पथराव करने वालों को पुलिस की अनुमति मिल रही है और नागरिकता कानून का समर्थन करने के लिए हमारी शांतिपूर्ण सभा की अनुमति से इनकार कर दिया गया है!




भारतीय मुसलमानों के बीच गलतफहमी पैदा करने की कोशिश
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पाकिस्तान ने विभाजन के दौरान किए गए आश्वासन को पूरा नहीं किया कि अल्पसंख्यकों की रक्षा की जाएगी. इसलिए भारत को उनकी देखभाल करनी होगी क्योंकि वे हमारे लोग हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष जानबूझकर कानून को लेकर भारतीय मुसलमानों के बीच गलतफहमी पैदा करने की कोशिश कर रहा है. वोट बैंक की राजनीति के लिए विपक्ष अशांति पैदा करने की कोशिश कर रहा है.

इस कानून के विरोधियों का कहना है कि...
नागरिकता संशोधन कानून के तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश में धार्मिक उत्पीड़न के कारण देश में शरण लेने आए हिंदू, ईसाई, सिख, पारसी, जैन और बौद्ध धर्म के उन लोगों को भारत की नागरिकता दी जाएगी, जिन्होंने 31 दिसंबर 2014 तक भारत में प्रवेश कर लिया था. ऐसे सभी लोग भारत की नागरिकता के लिए आवेदन कर सकेंगे. इस कानून के विरोधियों का कहना है कि इसमें सिर्फ गैर मुस्लिमों को नागरिकता देने की बात कही गई है.

ये भी पढ़ें-

अमृता फडणवीस VS शिवसेना: एक्सिस बैंक में नहीं होंगे अब ठाणे नगर निगम के अकाउंट

पवार ने हमें सिखाया, कम विधायक होने पर भी कैसे बनाई जाती है सरकार: उद्धव ठाकरे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 27, 2019, 5:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर