तलोजा जेल में गूंज रहे हैं कैदियों के सुहाने गीत, हर रोज होता है 1 घंटे का शो

तलोजा केंद्रीय जेल में कैदी रेडियो स्टेशन चलाते हैं, जो मुंबई मेट्रोपॉलिटिन रीजन में पहला जेल है. जेल अधीक्षक का कहना है कि संगीत आत्मा में पहुंचता है और कैदियों के लिए स्ट्रेस बूस्टर का काम करता है.

News18Hindi
Updated: February 14, 2019, 3:09 PM IST
तलोजा जेल में गूंज रहे हैं कैदियों के सुहाने गीत, हर रोज होता है 1 घंटे का शो
सांकेतिक तस्वीर
News18Hindi
Updated: February 14, 2019, 3:09 PM IST
बड़े-बड़े अपराध करने के बाद जेल में बंद खूंखार बंदी किशोरदा, मुकेश, मोहम्मद रफी के प्यार भरे तराने गा रहे हैं. तलोजा जेल में बंद अपराधी बंदी पुरे दिन में हर रोज एक घंटे सैंकड़ों बंदियों को सुहाने गीत सुना रहा है. जुर्म की दुनिया में कदम रखने वाले कैदी रोज किसी एक थीम को लेकर अपनी कला पेश करते हैं. इसके लिए जेल में एक रेडियो स्टेशन में चलाया जा रहा है.

सदाबहार गीतों का माहौल एक घंटे के लिए तलोजा जेल के कैदियों को जुर्म की दुनिया से दूर एक अलग ही वातारवरण में ले जाता है. यहां सजा काटने वाले कैदी हर रोज दोपहर के समय गीत गाते नज़र आते हैं. जेलर के प्रयास से बंदियों को सुहानी यादें बिताने का मौका मिला है. रोज एक थीम को लेकर कैदियों को रेडियो जॉकी बनने का मौका मिलता है और फिर शानदार गीत की प्रस्तुति होती है. नवी मुंबई की तलोजा जेल का यह रेडियो स्टेशन खुद कैदी ही चलाते हैं. यहां एक घंटे के शो में साउंड मिक्सिंग से लेकर रेडियो जॉकी तक का काम कैदी ही करते हैं. इस रेडियो स्टेशन को चलाने वाले तीन कैदी है, जो रेडियो जॉकी, साउंड मिक्सिंग और राइटर का काम करते हैं.

तलोजा केंद्रीय जेल में कैदी रेडियो स्टेशन चलाते हैं, जो मुंबई मेट्रोपॉलिटिन रीजन में पहला जेल है. जेल अधीक्षक का कहना है कि संगीत आत्मा में पहुंचता है और कैदियों के लिए स्ट्रेस बूस्टर का काम करता है. उन्होंने बताया कि जेल में रेडियो स्टेशन का आइडिया काफी पुराना था, लेकिन उसके लिए तकनीकी सहायता चाहिए थी. एसपी ने बताया कि नवी मुंबई के एक एनजीओ ने उन्हें मिक्सर, लैपटॉप और माइक्रोफोन उपलब्ध करवाए.



जेल अधीक्षक कौस्तुभ कुर्लेकर ने बताया कि एनजीओ के लोगों ने कैदियों को प्रशिक्षित करने के लिए साउंड इंजीनियर उपलब्ध करवाया. अब हर रोज दोपहर 12 से 1 बजे तीन लोगों की एक टीम शो करती है. संजय दत से प्रेरित तलोजा जेल रेडियो स्टेशन के पीछे पुणे की यरवदा जेल का रेडियो स्टेशन रहा.

यह भी पढ़ें-  मुन्ना भाई की 'जेलवाणी' के तर्ज पर यहां भी बंदियों का मनोरंजन करेगा रेडियो

यह भी पढ़ें-  जेल में रेडियो जॉकी बनकर कैदियों का मनोरंजन कर रहे हैं संजय! 

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर