मुंबई बारिशः 12 घंटे तक राजधानी एक्सप्रेस में फंसे रहे यात्री, नाव से निकाला गया बाहर

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस तक सूचना पहुंची तो तत्काल उन्होंने पालघर कलेक्टर से बात की और हर हाल मे लोगों को निकालने कहा.

संदीप सोनवलकर
Updated: July 10, 2018, 8:30 PM IST
मुंबई बारिशः 12 घंटे तक राजधानी एक्सप्रेस में फंसे रहे यात्री, नाव से निकाला गया बाहर
प्रतीकात्मक तस्वीर
संदीप सोनवलकर
संदीप सोनवलकर
Updated: July 10, 2018, 8:30 PM IST
दिल्ली में मुंबई की तरफ राजधानी एक्सप्रेस शाम करीब साढ़े पांच निकली होगी तो किसी ने सोचा नही होगा कि सफर इतना लंबा होगा. ट्रेन जैसे-जैसे मुंबई की तरफ बढ़ रही थी सुबह के अलसाये यात्री अपना सामान समेटने में लगे थे लेकिन सुबह करीब 6 बजे जैसे ही ट्रेन मुंबई की सीमा से कुछ पहले स्टेशन नालासोपारा पहुंची तो ट्रेन रुक गयी. पहले किसी को पता नहीं था कि क्या हुआ? चारों तरफ से जोरदार बारिश हो रही थी. सबको लगा कि शायद कोई क्रासिंग या कुछ और बात होगी.

ये भी पढ़ेंः मुंबई हाईकोर्ट का रेलवे से सवाल, मानसून से पहले तैयारी क्यों नहीं?

जैसे जैसे दिन चढ़ने लगा लोगों की मुसीबत बढ़ने लगी. पालघर जिले के इस इलाके में रात भर से जोरदार बारिश हो रही थी. दिन चढ़ने के साथ ही पानी भी बढ़ने लगा. उधर इस गाड़ी से ठीक आगे और पीछे भी एक-एक करके गाडियों को वसई, नालासोपारा, विरार, पालघर और डहाणू में रोका जाने लगा.

बारिश बढ़ती ही जा रही थी. खतरा देखकर रेलवे ने एक-एक करके सारी गाड़ियों में इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई बंद कर दी. पूरी तरह से एसी राजधानी एक्सप्रेस में यात्रियों का बुरा हाल हो रहा था. अंदर एसी नही चलने के कारण दम घुट रहा था.वो चाहकर भी बाहर नही आ पा रहे थे. क्योंकि पूरे प्लेटफॉर्म और पटरियों पर पानी भरा हुआ था. दिन भर में 300 मिलीमीटर की बारिश हुई. एक बार तो ऐसा लगा कि कहीं ट्रेन में ही पानी न भर जाए.

ये भी पढ़ेंः मुंबई बारिश: गड्ढे से टकराकर बाइक से गिरी महिला को बस ने कुचला, सामने आया वीडियो

किसी तरह फोन पर अपनों को सूचना दी गई तो पहले फायर ब्रिग्रेड और बाद में एनडीआरएफ को सूचना दी मिली लेकिन मुंबई से वसई जाने वाले रास्ते पर भी आठ फुट तक पानी भरा हुआ था. भारी बारिश के कारण पास के सूर्या डैम में पानी छोडा गया था. जिससे वो सड़क पर फैल गया था. मुंबई घोडबंदर रोड पर भी जमकर जाम लगा हुआ था. बड़ी मुश्किल से मुंबई और ठाणे पुलिस ने उलटी तरफ से रास्ते पर एक लेन बनाई और एनडीआरएफ की टीम को जाने दिया. सूचना महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस तक भी पहुंची तो तत्काल उन्होंने पालघर कलेक्टर से बात कीऔर हर हाल मे लोगों को निकालने कहा.

बसई के रास्ते एनडीआरएफ और लोकल पुलिस प्रशासन किसी तरह स्टेशन पहुंचा. वहां से लोगों को नाव और रस्सी के सहारे दूर तक लाया गया. करीब 6 घंटे में सामान सहित 1500 लोगों को अलग-अलग गाड़ियों से बाहर लाया गया. फिर इन लोगों को बसों के ज़रिए मुंबई की तरफ भेज दिया. तब कहीं सबने राहत की सांस ली. हालांकि शाम होते-होते बारिश थोड़ी थमी और पानी उतरने लगा लेकिन अब भी अगले 24 घंटे तक मुंबई में फिर से बारिश होने का खतरा बना हुआ है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर