• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • फिर चलेंगी मुंबई की 'लाइफलाइन' लोकल ट्रेनें, उद्धव सरकार कर रही विचार

फिर चलेंगी मुंबई की 'लाइफलाइन' लोकल ट्रेनें, उद्धव सरकार कर रही विचार

कोरोना की वजह से लोकल ट्रेनें आम लोगों के लिए बंद हैं. (फाइल फोटो)

कोरोना की वजह से लोकल ट्रेनें आम लोगों के लिए बंद हैं. (फाइल फोटो)

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनकी सरकार मुंबई की उपनगरीय ट्रेनों के दोबारा परिचालन पर विचार कर रही है. उन्होंने कहा कि इस संबंध में निर्णय सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए लिया जाएगा.

  • Share this:

    मुंबई. कोरोना की स्थिति ठीक होने के बाद अब मुंबई की लाइफलाइन (Mumbai Lifeline) कही जाने वाली लोकल ट्रेन (Local Train) आम लोगों के लिए दोबारा शुरू की जा सकती है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनकी सरकार मुंबई की उपनगरीय ट्रेनों के दोबारा परिचालन पर विचार कर रही है. उन्होंने कहा कि इस संबंध में निर्णय सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए लिया जाएगा. दरअसल कोरोना महामारी के प्रकोप के कारण लोकल ट्रेनों का परिचालन आम लोगों के लिए बंद कर दिया गया था.

    बीते तीन सप्ताह से मुंबई में नए कोरोना मामलों की संख्या हर दिन 500 से कम रही है. कांग्रेस समेत अन्‍य दल और लोग महाराष्‍ट्र सरकार से मुंबई की लोकल ट्रेनों को आम लोगों के लिए भी शुरू करने की मांग कर रहे हैं. इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया दी थी. उन्होंने कहा था कि मुंबई लोकल ट्रेनों में आम लोगों को सफर की इजाजत देने संबंधी निर्णय को अभी विचार करने के लिए रखा गया है. इस पर अंतिम निर्णय मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे को लेना है.

    मार्च 2020 से आम लोगों के लिए बंद है लोकल ट्रेन
    पिछले महीने महाराष्‍ट्र के कैबिनेट मंत्री असलम शेख ने कहा था कि मुंबई लोकल ट्रेनों में वैक्‍सीन की दोनों डोज लगवा चुके आम लोगों को सफर की इजाजत देने का फैसला जल्‍द ही लिया जा सकता है. अभी मार्च 2020 से मुंबई लोकल ट्रेनों में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए आम लोगों का सफर बंद कर दिया गया था. सिर्फ फ्रंटलाइन वर्कर्स ही मुंबई लोकल ट्रेनों में सफर कर रहे हैं.

    बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी किया था सवाल
    बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी महाराष्ट्र सरकार से बीते सोमवार को प्रश्न किया था कि कोरोना वायरस संक्रमण रोधी टीके की दोनों खुराक ले चुके लोगों को मुंबई में लोकल ट्रेनों में यात्रा करने की इजाजत क्यों नहीं दी जा सकती. मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जीएस कुलकर्णी की पीठ ने कहा कि अगर संक्रमण रोधी टीके की खुराक लेने के बाद भी नागरिकों से घरों के अंदर रहने की उम्मीद की जाती है तो टीके की दोनों खुराक लेने का मतलब ही क्या है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज