लाइव टीवी
Elec-widget

महाराष्‍ट्र में सत्‍ता का संग्राम: अस्‍पताल से डिस्‍चार्ज होते ही बोले संजय राउत- CM तो शिवसेना का ही होगा

News18India
Updated: November 13, 2019, 1:33 PM IST
महाराष्‍ट्र में सत्‍ता का संग्राम: अस्‍पताल से डिस्‍चार्ज होते ही बोले संजय राउत- CM तो शिवसेना का ही होगा
अस्पताल से बाहर आते शिवसेना नेता संजय राउत.

लीलावती अस्‍पताल (Lilavati Hospital) से डिस्‍चार्ज होते ही शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने महाराष्‍ट्र के अगले मुख्‍यमंत्री को लेकर एक बार फिर से बयान दिया है.

  • News18India
  • Last Updated: November 13, 2019, 1:33 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में राष्‍ट्रपति शासन लागू होने के बाद भी सत्‍ता का संग्राम थमता नहीं दिख रहा है. शिवसेना (Shiv Sena), NCP और कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर लगातार कोशिशें चली रही हैं. इस बीच, लीलावती अस्‍पताल (Lilavati Hospital) से डिस्‍चार्ज होते ही शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने महाराष्‍ट्र के अगले मुख्‍यमंत्री को लेकर एक बार फिर से बयान दिया है. उन्‍होंने कहा कि प्रदेश में मुख्‍यमंत्री तो शिवसेना का ही बनेगा. बता दें कि 11 नवंबर को सीने में तेज दर्द की शिकायत के बाद संजय राउत को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था.




19 दिन बाद भी महाराष्‍ट्र में असमंजस की स्थिति
गौरतलब है कि सीएम पद को लेकर ही शिवसेना एनडीए गठबंधन से अलग हुई है. ऐसे में चुनाव परिणाम आने के 19 दिन बाद भी महाराष्‍ट्र में अभी तक नई सरकार का गठन नहीं हो पाया है. शिवसेना ने बीजेपी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था, लेकिन दोनों में से किसी को पूर्ण बहुमत हासिल नहीं हुआ. हालांकि, भाजपा को शिवसेना से बहुत ज्यादा सीटें मिली हैं. ऐसे में बीजेपी को सरकार बनाने के लिए शिवसेना के समर्थन की जरूरत थी, लेकिन उद्धव ठाकरे ने बीजेपी के सामने 50-50 का फॉर्मूला रख दिया था. इसके तहत दोनों पार्टी के पास ढाई-ढाई साल तक के लिए सीएम का पद रहता, लेकिन भाजपा ने उस फॉर्मूले को नहीं माना.
Loading...

कई दिनों तक चली खींचतान
सीएम की कुर्सी की मांग को लेकर बीजेपी और शिवसेना में काफी दिनों तक दोनों के बीच खींचतान चली. ऐसे में राज्यपाल ने बीजेपी को सबसे बड़े दल होने के नाते सरकार बनाने के लिए न्योता दिया था, लेकिन देवेंद्र फडणवीस ने सरकार बनाने में असमर्थता जता दी. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के पास पूर्ण बहुत नहीं है. इसके बाद राज्यपाल ने शिवसेना को सरकार बनाने का न्योता दिया था. लेकिन, समय रहते उद्धव ठाकरे एनसीपी और कांग्रेस का समर्थन नहीं हासिल नहीं कर सके. ऐसे में मंगलवार को राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया.


ये भी पढ़ें- 

देर रात उद्धव से मिले अहमद पटेल, दिल्ली पहुंचते ही सोनिया गांधी के घर रवाना

राष्ट्रपति शासन के बाद अब महाराष्ट्र के सामने क्या है विकल्प

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 1:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com