लाइव टीवी

संजय राउत ने कहा- 2022 में शरद पवार बनें देश के राष्ट्रपति, फैसले के लिए हमारे पास होगी पर्याप्त संख्या
Mumbai News in Hindi

भाषा
Updated: January 6, 2020, 2:02 PM IST
संजय राउत ने कहा- 2022 में शरद पवार बनें देश के राष्ट्रपति, फैसले के लिए हमारे पास होगी पर्याप्त संख्या
शिवसेना सांसद ने कहा कि शरद पवार वरिष्ठ नेता हैं और सभी को उनके नाम पर विचार करना चाहिए. (फाइल फोटो)

राउत ने कहा, 'शरद पवार देश के वरिष्ठ नेता हैं. मुझे लगता है कि 2022 में होने वाले राष्ट्रपति पद के लिए सभी राजनीतिक दलों को उनके नाम पर विचार करना चाहिए.'

  • Share this:
मुंबई. एक तरफ महाराष्ट्र में राजनीतिक उठा पटक का दौर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है, वहीं राज्यसभा सांसद और शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने सोमवार को चौंकाने वाला बयान दे दिया. इस बयान के बाद राजनीतिक गलियारों में 2022 को लेकर चर्चा तेज हो गई है. राउत ने कहा कि साल 2022 के राष्ट्रपति (President) पद के चुनाव के लिए सभी राजनीतिक दलों को राकांपा प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) के नाम पर विचार करना चाहिए. राउत ने यह भी दावा किया कि 2022 तक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का फैसला करने के लिए 'हमारी तरफ' पर्याप्त संख्या होगी.

दरअसल, शरद पवार ने महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार बनाने के लिए शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस को एक साथ लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. उन्होंने गठबंधन में कांग्रेस को आने के लिए राजी किया था. इसके लिए दिल्ली आकर उन्होंने कई बार सोनिया गांधी से मुलाकात भी की थी. यही वजह है कि राउत शरद पवार के प्रति इतने नरम हैं और आगामी राष्ट्रपति उम्मीदवार के तौर पर उनके नाम पर विचार करने को कह रहे हैं.

पार्टी सीएए का समर्थन करती है
बता दें कि बीते शानिवार को संजय राउत ने कहा था कि उनकी पार्टी संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों का समर्थन करती है. राउत ने कहा था कि महाराष्ट्र देश के लिए एक ‘सबक’ है. ऐसे में किसी को भयभीत होने की जरूरत नहीं है. संजय राउत ने सीएए पर जमात-ए-इस्लामिक हिंद और एसोसिएशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ सिविल राइट्स द्वारा आयोजित एक बैठक के दौरान ये बातें कहीं. उन्होंने कहा कि मेरी पार्टी सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शनों के पक्ष में है.

 भाजपा हार को नहीं पचा पा रही है
संजय राउत ने दावा किया था कि महाराष्ट्र में हार को भाजपा अब भी नहीं पचा पा रही है. राउत ने कहा कि, 'वे अब तक दुख में हैं और हमें उन्हें और दुख देना चाहिए. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र ने देश को सबक दिया है कि डरो मत. उनका इशारा संभवत: भाजपा से संबंध तोड़कर राज्य में कांग्रेस और राकांपा के साथ मिलकर सरकार बनाने की तरफ था. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र ने देश को रास्ता दिखाया है. देश हमारा धर्म है. हम सबको एकजुट होना चाहिए और इसी से वे (भाजपा) डरे हुए हैं.’
ये भी पढ़ें- JNU हिंसा में घायल हुए 20 छात्र AIIMS में भर्ती, पुलिस हेडक्वार्टर पर धरना

JNU हिंसा: CM केजरीवाल के आवास पर बैठक शुरू, कई मंत्री मौजूद

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 6, 2020, 12:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर