• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • शिवसेना का BJP पर हमला- महाराष्‍ट्र की मिट्टी में ढोंग और अहंकार नहीं चलने वाला

शिवसेना का BJP पर हमला- महाराष्‍ट्र की मिट्टी में ढोंग और अहंकार नहीं चलने वाला

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने 29 नवंबर को मुख्‍यमंत्री का कामकाज संभाला था. (PTI)

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने 29 नवंबर को मुख्‍यमंत्री का कामकाज संभाला था. (PTI)

महाराष्‍ट्र में सरकार गठन के बाद भी BJP और Shiv Sena के बीच तल्‍खी कम होने का नाम नहीं ले रही है. 'सामना' में संपादकीय के जरिये इस बार छत्रपति शिवाजी और सरदार वल्‍लभ भाई पटेल की मूर्ति का मुद्दा उठाया गया है.

  • Share this:
    मुंबई. महाराष्‍ट्र में गठबंधन की सरकार बनने और उद्धव ठाकरे के मुख्‍यमंत्री के तौर पर शपथ लेने के बाद भी BJP और शिवसेना (Shiv Sena) के बीच की तल्‍खी कम होने का नाम नहीं ले रही है. शिवसेना ने मुखपत्र 'सामना' में संपादकीय के जरिये एक बार फिर से भाजपा पर हमला बोला है. सामना में शिवसेना ने लिखा, 'महाराष्‍ट्र की मिट्टी में ढोंग और अहंकार नहीं चलने वाला है. शिवाजी महाराज के नाम पर शपथ लेते हैं, वचन लेते और देते हैं. इसके बावजूद उसे न निभाने वाले राजनेता के रूप में घूम रहे हैं.' इसके साथ ही सरदार वल्‍लभ भाई पटेल और छत्रपति शिवाजी की प्रतिमा को लेकर भी बीजेपी और शिवसेना के बीच तकरार बढ़ गई है.

    महाराष्‍ट्र विधानसभा चुनाव परिणाम सामने आने के बाद मुख्‍यमंत्री के पद को लेकर बीजेपी और शिवसेना में दरार आ गई थी. आखिरकार शिवसेना ने भाजपा से तीन दशक से भी पुराना गठबंधन तोड़कर कांग्रेस और राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ‍ मिलकर सरकार बना ली. उद्धव ठाकरे ने प्रदेश के मुख्‍यमंत्री के तौर पर शपथ ली. इसके बावजूद बीजेपी और शिवसेना आमने-सामने है. 'सामना' के संपादकीय के जरिये बीजेपी पर लगातार हमला बोला जा रहा है.

    शिवाजी और पटेल की प्रतिमा का उठाया मुद्दा
    शिवसेना ने 'सामना' में संपादकीय के जरिये छत्रपति शिवाजी और सरदार वल्‍लभ भाई पटेल की मूर्ति का मुद्दा उठाया. इसमें लिखा, 'बीजेपी के नेता विधानसभा चुनाव में कहते थे कि शिवराय का आशीर्वाद सिर्फ उन्‍हें ही है. शिवाजी के वंशज उदयनराजे ने जैसे ही भाजपा में प्रवेश किया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा नेताओं ने कहा कि छत्रपति हमारे साथ हैं. इसके बावजूद उदयनराजे खुद चुनाव हार गए. यह पराजय छत्रपति के विचारों की नहीं, व्‍यक्ति की थी. शिवाजी महाराज का स्‍वामित्‍व किसी एक पार्टी के पास नहीं है. गुजरात में सरदार पटेल का ऊंचा स्‍मारक बनाया गया, लेकिन युगपुरुष शिवाजी महाराज का समुद्र में बनने वाले स्‍मारक के लिए एक ईंट भी नहीं रखी गई.'

     

    ये भी पढ़ें:  महाराष्ट्र: उद्धव सरकार की 'परीक्षा' आज, विधानसभा में होगा फ्लोर टेस्ट

    CM ठाकरे ने आरे प्रॉजेक्‍ट पर लगाई रोक, फडणवीस बोले- मुंबईवासियों को उठाना पड़ेगा नुकसान

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज