लाइव टीवी

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा- दिल्ली हिंसा को देखकर यमराज भी इस्तीफा दे देते
Mumbai News in Hindi

News18Hindi
Updated: March 8, 2020, 6:51 PM IST
शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा- दिल्ली हिंसा को देखकर यमराज भी इस्तीफा दे देते
दिल्ली हिंसा को लेकर शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में एक लेख छापा है. (फाइल फोटो)

संजय राउत (Sanjay Raut) ने लिखा है, ‘मुदस्सर खान के बच्चे का फोटो दुनियाभर में प्रकाशित हुआ. वो फोटो कलेजा चीरनेवाला है. मुदस्सर खान के उस निरपराध बच्चे के आंसू और आक्रोश से दिल्ली के दंगों का वास्तविक दृश्य दुनिया के सामने आया.’

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) को लेकर शिवसेना (Shiv Sena) ने अपने मुखपत्र सामना (Samna) में एक लेख छापा है. इस लेख में दिल्ली हिंसा को हृदय विदारक बताया गया है. राज्यसभा सांसद संजय राउत (Sanjay Raut) ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रही एक तस्वीर के हवाले से यह लेख लिखा है. संजय राउत लिखते हैं, ‘दिल्ली की हिंसा को देखकर तो अब तक यमराज भी इस्तीफा दे देते. हिंदू और मुसलमानों के मासूम बच्चे अनाथ हो गए. क्या हम अनाथों की एक नई दुनिया बना रहे हैं? मानवता खो चुकी राजनीति, उस राजनीति से निर्माण होनेवाला निघृण धार्मिक उन्माद और उस उन्माद से पैदा किया गया नया राष्ट्रवाद देश के बचे-खुचे इंसानों को मार रहा है. यह दृश्य राजनीतिज्ञों को दुख नहीं देता होगा तो उन्हें खुद को यम का वारिस घोषित कर देना चाहिए. दिल्ली में खून-खराबेवाला मौत का तांडव देखकर यम भी विचलित हो गया होता और उसने अपने पद से इस्तीफा दे दिया होता. देश का दृश्य भयानक है.’

दिल्ली हिंसा को लेकर दर्द झलका
संजय राउत ने आगे लिखा है, ‘मुदस्सर खान के बच्चे का फोटो दुनियाभर में प्रकाशित हुआ. वो फोटो कलेजा चीरनेवाला है. मुदस्सर खान के उस निरपराध बच्चे के आंसू और आक्रोश से दिल्ली के दंगों का वास्तविक दृश्य दुनिया के सामने आया. 50 सिर्फ एक आंकड़ा है, लेकिन वास्तव में यह 100 से अधिक होगा. अगर लोग अभी भी हिंदू-मुस्लिम मानते हैं तो यह मानवता की मौत है.’

Sanjay Raut, Sanjay Raut statement on Delhi riots, shiv sena, mukhpatra samna, delhi violence death toll, Delhi riot, sanjay raut article in Saamna, Delhi riot news, संजय राउत, राज्यसभा सांसद, सामना, शिवसेना, दिल्ली दंगों पर संजय राउत का बयान, दिल्ली दंगों में मौत का ताडंव, दिल्ली दंगा, शिवसेना का मुखपत्र सामना, सामना में संजय राउत का लेख, दिल्ली सरकार, नार्थ-ईस्ट दिल्ली राइट्स, उत्तर पूर्वी जिला दिल्ली
संजय राउत ने आगे लिखा है, ‘मुदस्सर खान के बच्चे का फोटो दुनियाभर में प्रकाशित हुआ. (फाइल फोटो)




अपने लेख में संजय राउत ने लिखा है कि हिंदुत्व, धर्मनिरपेक्ष, हिंदू-मुसलमान, क्रिश्चन-मुसलमान के विवाद से दुनिया विनाश की दहलीज पर पहुंच गई है. धर्म के नाम पर ‘बचाओ! बचाओ!’ का आक्रोश किया जाता है. मदद के लिए न तो ईश्वर दौड़ते हैं, न अल्लाह दौड़ते हैं, न ही येसु दौड़ते हैं. ‘सरकार’ नामक माई-बाप भी ऐसे संकटों के समय दरवाजे, खिड़कियां बंद करके बैठ जाते हैं. दंगे, अकाल, बाढ़ में कितने लोग मरते हैं. इसके आंकड़े आते हैं, लेकिन इन दंगों में कितने बच्चे अनाथ और लावारिस हुए हैं इसके आंकड़े आने अभी बाकी हैं.'



संजय राउत ने कहा- हम कहां जा रहे हैं?
राउत ने लिखा है, 'दिल्ली हिंसा के बाद एक निरपराध बच्चे की फोटो दुनियाभर में प्रकाशित हुई. बाप की लाश के पास ये बच्चा क्रंदन कर रहा है. ये फोटो देखकर भी कोई हिंदू-मुसलमान ऐसा खेल करता रहेगा तो इंसान की हैसियत से जीने के लायक नहीं होगा. एक स्कूली बच्चा अपने खाक हुए घर की राख से स्कूल की जली हुई पुस्तकें बाहर निकाल रहा है. ये पुस्तकें उर्दू में न होकर हिंदी में हैं. उस राख में तो हिंदू-मुसलमान मत ढूंढ़ो, लेकिन ऐसी खोज जारी ही है. यह राख मतलब राजनीतिज्ञों की रोजी-रोटी बन गई है.'

jeevan samvad, जीवन संवाद, dayashankar mishra , delhi violence, दिल्ली हिंसा, दयाशंकर मिश्र, motivational stories, प्रेरणात्मक बातें, dear zindagi, डियर जिंदगी
दिल्ली हिंसा की तस्वीर. (फोटो साभार: प्रवीण खन्ना के फेसबुक वॉल से)


राउत ने कहा, ‘'शाहीनबाग’ में आंदोलन विवाद का मुद्दा बन सकता है. किसी ने वहां भड़काऊ भाषण दिया, किसी ने आग लगाई. ये सब कौन लोग थे, जिन्होंने 50 से ज्यादा लोगों के प्राण ले लिए? ऐसा सवाल कई निरपराध बच्चे और उनकी मां की आंखों से बहने वाले आंसू उठा रहे हैं. ऐसा ही सवाल अंकित शर्मा की मां, राहुल सोलंकी के पिता और मुदस्सर खान के कोमल बच्चे की आंखों से न रुकने वाले आंसू पूछ रहे हैं. खून का रंग धर्म के अनुसार नहीं होता है. उसी तरह आंसुओं का भी नहीं होता है.'

ये भी पढ़ें: 

दिल्ली: ISIS के दो संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार, आत्मघाती हमले की फिराक में था दंपति

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 8, 2020, 6:47 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading