लाइव टीवी

दिवाली पर बाजारों में सुस्ती, शिवसेना ने शोले फिल्म के डॉयलॉग से BJP पर साधा निशाना

भाषा
Updated: October 28, 2019, 1:51 PM IST
दिवाली पर बाजारों में सुस्ती, शिवसेना ने शोले फिल्म के डॉयलॉग से BJP पर साधा निशाना
शिवसेना के मुखपत्र में लिखे गए लेख के माध्यम से केंद्र सरकार पर निशाना साधा गया है. (फाइल फोटो)

'शोले' फिल्म में रहीम चाचा के डायलॉग '...इतना सन्नाटा क्यों है भाई?' का इस्तेमाल करते हुए महाराष्ट्र (Maharashtra) में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की गठबंधन सहयोगी शिवसेना (Shiv Sena) ने देश में आर्थिक सुस्ती (Economic Slowdown) को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.

  • Share this:
मुंबई. 'शोले' फिल्म में रहीम चाचा के डायलॉग '...इतना सन्नाटा क्यों है भाई?' का इस्तेमाल करते हुए महाराष्ट्र (Maharashtra) में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की गठबंधन सहयोगी शिवसेना (Shiv Sena) ने देश में आर्थिक सुस्ती (Economic Slowdown) को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा. शिवसेना ने अपने मुखपत्र 'सामना' के संपादकीय में लिखा है, '...इतना सन्नाटा क्यों है भाई????' इस डायलॉग के माध्यम से पार्टी ने देश और महाराष्ट्र में छायी आर्थिक सुस्ती को लेकर सरकार पर निशाना साधा है.

'शोले' फिल्म में यह डायलॉग रहीम चाचा (एके हंगल) का है जब गब्बर सिंह (अमजद खान) बाहर नौकरी के लिए जा रहे उनके बेटे की हत्या कर उसकी लाश एक घोड़े पर रखकर गांव में भेजता है. उस दौरान सभी गांव वाले एकदम चुप हैं और दृष्टिबाधित खान चाचा सबसे सवाल करते हैं '...इतना सन्नाटा क्यों है भाई?'

जीएसटी के कारण बाजारों में रौनक नहीं
शिवसेना ने इस डायलॉग के माध्यम से देश में आर्थिक सुस्ती और त्योहारों के मौके पर बाजारों से गायब रौनक के लिए सरकार के नोटबंदी और गलत तरीके से माल एवं सेवा कर (जीएसटी) को लागू करने को जिम्मेदार बताया है. उसने सामना में लिखा है, 'सुस्ती के डर से बाजारों की रौनक चली गयी है और बिक्री 30 से 40 प्रतिशत की कमी आयी है. उद्योगों की हालत खराब है और विनिर्माण इकाइयां बंद हो रही हैं, इससे लोगों की नौकरियां जा रही हैं.'

विदेशी कंपनियां देश के पैसे से तिजोरी भर रही हैं
मराठी 'सामना' ने लिखा है कि कई बैंकों की हालत खराब है, वे वित्तीय संकट से जूझ रहे हैं और लोगों के पास खर्च करने को पैसा नहीं है. 'सामना' में लिखा है, 'दूसरी ओर सरकार भी भारतीय रिजर्व बैंक से धन निकालने को मजबूर हुई है. दिवाली पर बाजारों में सन्नाटा छाया है, लेकिन विदेशी कंपनियां ऑनलाइन शॉपिंग साइटों के माध्यम से देश के पैसे से अपनी तिजोरियां भर रही हैं.'

चुनावों में भी शोर कम और 'सन्नाटा' ज्यादा था
Loading...

संपादकीय में लिखा है, बेवक्त हुई बारिश के कारण किसानों की तैयार फसल खराब हो गई जिससे उनकी माली हालत खराब है. 'लेकिन बदकिस्मती है कि कोई भी किसानों को इससे बाहर निकालने की नहीं सोच रहा है.' संपादकीय में दावा किया है गया कि दिवाली से ऐन पहले हुए राज्य विधानसभा चुनावों में भी शोर कम और 'सन्नाटा' ज्यादा था.

ये भी पढ़ें-

राज्यपाल से अलग-अलग मिले BJP-शिवसेना नेता, फडणवीस ने कही ये बात

महाराष्‍ट्र: निर्दलीय विधायकों को अपने खेमे में करने में जुटी BJP-शिवसेना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 28, 2019, 1:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...