लाइव टीवी

Maharashtra Assembly Election 2019: शिवसेना की CM और आधे मंत्री की मांग ने उलझाया सरकार के गठन का गणित

Anil Rai | News18Hindi
Updated: October 24, 2019, 2:02 PM IST
Maharashtra Assembly Election 2019: शिवसेना की CM और आधे मंत्री की मांग ने उलझाया सरकार के गठन का गणित
बीजेपी के इस चुनाव में शिवसेना से गठबंधन के बाद भी पिछले चुनाव से करीब 18 से 20 सीटों के नुकसान हो रहा है

शिवसेना ने महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद और कैबिनेट में आधी सीटें मांगकर गठबंधन पर संकट के बादल खड़े कर दिए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2019, 2:02 PM IST
  • Share this:
मुंबई. हरियाणा के बाद अब महाराष्ट्र (Maharashtra Assembly Election 2019) में भी सरकार के गठन का गणित उलझता जा रहा है. बीजेपी-शिवसेना (BJP-SHIV SENA) गठबंधन से जो खबरें आ रही हैं, वो बीजेपी के लिए ठीक नहीं है. शिवसेना ने महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद और कैबिनेट में आधी सीटें मांगकर गठबंधन पर संकट के बादल खड़े कर दिए हैं. दरअसल, अबतक जो रुझान सामने आ रहे हैं उसमें बीजेपी 104 से 105 सीटों तक सिमटती नजर आ रही हैं यानि बहुमत से करीब 40 सीटें कम हासिल होती दिख रही हैं.

बीजेपी के इस चुनाव में शिवसेना से गठबंधन के बाद भी पिछले चुनाव से करीब 18 से 20 सीटों के नुकसान हो रहा है. ऐसे में शिवसेना की मुख्यमंत्री मंत्री और कैबिनेट में 50—50 का बंटवारे की मांग के बाद गठबंधन में अनबन होना लाजिमी हैं. बीजेपी किसी भी कीमत पर शिवसेना की इस मांग को मानने को तैयार नहीं दिख रही है.

आखिर शिवसेना ने क्यों रखी ऐसी मांग

अबतक के रुझानों पर नजर डालें तो शिवसेना का अकेले 62 सीटें मिल रही हैं और ये सीटें इतनी है कि इसके बिना बीजेपी की सरकार बनती नहीं दिख रही है और शिवसेना इसी का फायदा उठाना चाहती हैं. बीजेपी और शिवसेना का साथ भले ही तीन दशक पुराना हो लेकिन पिछले 5 सालों में उनके रिश्ते में अक्सर खटास देखने को मिलती हैं. विधानसभा चुनावों के ठीक पहले सीटों के बटवारे के मामले पर वर्षों से गठबंधन में बड़े भाई की भूमिका निभा रही शिवसेना को छोटे भाई की भूमिका में आना पड़ा लेकिन शिवसने ने इस बात की गांठ बांध ली और गाहे बगाहे शिवसेना क नेता बीजेपी पर हमला बोलते रहे और अब सीटों के गणित के बहाने शिवसेना इस बार बीजेपी को बैकफुट पर लाना जाहती थी.

शिवसेना अपनी मांग पर अड़ी तो क्या होगा

महाराष्ट्र में शिवसेना अगर अपनी मांग पर अड़ जाती है तो राज्य में राजनीतिक संकट खड़ा हो सकता है, क्योंकि पिछली विधानसभा की ही तरह एनसीपी के विश्वास प्रस्ताव पर बॉयकाट करने के बाद भी बीजेपी की सरकार बहुमत सिद्ध नहीं कर पाएगी. एक दूसरी स्थिति में शिवसेना सरकार बनाने की कोशिश करे और एनसपी और कांग्रेस उसका समर्थन कर दे लेकिन कांग्रेस के लिए यह स्थिति बहुत असहज होगी, लेकिन एक बात तय है शिवसेना के बयान ने महाराष्ट्र की राजनीति को अब दिलचस्प मोड़ पर ला दिया है.

यह भी पढ़ें: परली से 24,334 वोटों से पीछे चल रही हैं पंकजा मुंडे, चचेरा भाई दे रहा है कड़ी
Loading...

जनता पागल हो गई है जो बीजेपी-शिवसेना को वोट दे रही है : अबू आजमी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 1:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...