कुछ समय के लिए बूचड़खानों और मांस की दुकानें बंद किया जाना असंवैधानिक नहीं: बॉम्बे हाईकोर्ट

सितंबर 2015 में निगमों ने परिपत्र जारी किए थे कि हर साल चार से दस दिन तक चलने वाले पर्युषण पर्व के दौरान सभी बूचड़खाने और मांस बेचने की दुकानें बंद रखी जाएंगी.

भाषा
Updated: September 4, 2019, 6:56 PM IST
कुछ समय के लिए बूचड़खानों और मांस की दुकानें बंद किया जाना असंवैधानिक नहीं: बॉम्बे हाईकोर्ट
याचिकाकर्ताओं का दावा था कि दुकाने बंद रखने का निर्देश आजीविका के मौलिक अधिकार का उल्लंघन है.
भाषा
Updated: September 4, 2019, 6:56 PM IST
मुंबई. बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) ने बुधवार को कहा कि समाज के किसी विशेष वर्ग की भावनाओं को ध्यान में रखकर कुछ समय के लिए बूचड़खानों (Slaughter Houses) और मांस (Meat) की बिक्री बंद किया जाना असंवैधानिक नहीं है. मुख्य न्यायाधीश प्रदीप नंद्राजोग और न्यायमूर्ति भारती डांगरे ने इस मामले में बॉम्बे मटन डीलर्स एसोसिएशन और मेहुल मेपानी नामक व्यक्ति की याचिकाओं पर राहत देने से इनकार कर दिया.

याचिकाकर्ताओं ने बृह्नमुंबई नगर निगम (बीएमसी) और मीरा भायंदर नगर निगम के परिपत्रों को चुनौती दी थी जिसमें जैन समुदाय के 'पर्युषण' पर्व के दौरान बूचड़खानों और मांस बेचने वाली दुकानों को बंद रखने का निर्देश दिया गया था. सितंबर 2015 में निगमों ने परिपत्र जारी किए थे कि हर साल चार से दस दिन तक चलने वाले पर्युषण (Paryushana) पर्व के दौरान सभी बूचड़खाने और मांस बेचने की दुकानें बंद रखी जाएंगी. पर्युषण पर्व आमतौर पर अगस्त और सितंबर में मनाया जाता है. जैन समुदाय इसे पवित्र अवधि मानता है और इस दौरान उपवास और 'ध्यान' करता है.

आजीविका के मौलिक अधिकार का उल्लंघन को लेकर डाली गई थी याचिका
याचिकाकर्ताओं का दावा था कि दुकाने बंद रखने का निर्देश आजीविका के मौलिक अधिकार का उल्लंघन है. उन्होंने परिपत्रों पर रोक लगाने की अपील की है. अदालत ने कहा, 'हमारे विचार में समाज के किसी विशेष वर्ग की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए अगर कुछ समय के लिए बूचड़खाने और मांस की दुकानें बंद हैं, तो यह असंवैधानिक नहीं है.'

अदालत ने कोई राहत देने से इनकार करते हुए कहा कि वह बाद में किसी तारीख पर इन याचिकाओं पर अंतिम सुनवाई करेगा.

ये भी पढ़ें-

नारायण राणे का BJP में आना 'दूध में नमक मिलाने' जैसा: शिवसेना
Loading...

महाराष्‍ट्र चुनावों के लिए कांग्रेस ने लिया टिक टॉक का सहारा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 6:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...