Exclusive: दुनिया के सबसे बड़े समुद्री रोप-वे के काम में आई ये रुकावट

रवि सिंह | News18India
Updated: August 20, 2019, 6:28 PM IST
Exclusive: दुनिया के सबसे बड़े समुद्री रोप-वे के काम में आई ये रुकावट
मुंबई एलीफैंटा आईलैंड रोपवे के काम में आई ये रुकावट

मुंबई (Mumbai) को एलिफैंटा आइलैंड(Elephanta) से जोड़ने वाले रोप-वे (Rope Way) के काम में अड़चन आ गई हैं. इस रोप वे को पुरातत्व विभाग (ASI) से हरी झंडी नहीं मिल पा रही है, केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल (Tourism Minister Prahlad singh Patel) इस मामले को लेकर पीएम (PM Narendra Modi) से मिलने वाले हैं.

  • News18India
  • Last Updated: August 20, 2019, 6:28 PM IST
  • Share this:
बांद्रा-वर्ली सी लिंक (Bandra worli Sea Link) के बाद मुंबई (Mumbai) के नाम एक और आकर्षण जुड़ने से पहले ही काम में अड़चनें आ गई हैं. मुंबई को एलिफैंटा द्वीप से जोड़ने वाले रोप-वे के काम में अड़चनें आ गई हैं. इसे आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (ASI) से हरी झंडी नहीं मिल पा रही है, जिसके चलते काम शुरू नहीं हो पा रहा है. विश्व धरोहर (World Heritage) एलिफैंटा की गुफाएं (Elephanta Caves) एलिफैंटा आइलैंड पर मौजूद हैं, जिसके लिए ASI के अलावा इंडियन नेवी, कोस्ट गार्ड और पर्यावरण मंत्रालय से क्लीयरेंस लेनी जरूरी थी. बाकी से मंजूरी मिल चुकी है लेकिन ASI से अभी तक हरी झंडी का इंतजार है.

प्रधानमंत्री से लगाएंगे गुहार
केद्रीय पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल के मुताबिक अगर जरूरत पड़ी तो इस मामले में प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी से हस्तक्षेप करने की गुहार लगाएंगे जिससे कि नियमों में ढील मिल सके. हालांकि पटेल ने ASI का बचाव भी किया. पटेल ने राज्यों के पर्यटन मंत्रियों के सम्मेलन में कहा कि ASI के अधिकारी नियमों में बंधे हैं और उसी के हिसाब से उन्हें काम करना पड़ता है. इस मामले में उनकी जहाजरानी मंत्री से बैठक हो चुकी है, लेकिन अभी तक समाधान नहीं निकल पाया है क्योंकि इस प्रोजेक्ट के लिए कई एजेंसियों की अप्रूवल की जरुरत थी, अभी फिलहाल ASI की तरफ से हरी झंडी नहीं मिल पा रही है.

Rope Way - मुंबई को एलिफैंटा दृीप से जोड़ने वाले इस रोप वे की लंबाई 8 किमी है
मुंबई को एलिफैंटा आइलैंड से जोड़ने वाले इस रोप वे की लंबाई 8 किमी है


क्या है ये प्रोजेक्ट?
सबसे बड़ा समुद्री रोप-वे मुंबई को एलिफैंटा आइलैंड से जोड़ने का काम करेगा, जिसकी लंबाई 8 किमी है. इसकी अनुमानित लागत सात सौ करोड़ से ज्यादा है और ये दुनिया का सबसे बड़ा समुद्री रोप-वे होगा. समुद्र में 8 से 11 टॉवर खड़े किए जाएंगे जो 50 से 150 मीटर की लंबाई के होंगे. रोप-वे बनने के बाद पर्यटक 14 मिनट में एलिफैंटा पहुंच सकते हैं, फिलहाल गेटवे ऑफ इंडिया से बोट से एलिफैंटा पहुंचने में 1 घंटा लगता है.

एलिफैंटा मुंबई समुद्र तट से आठ किलोमीटर दूर एक आइलैंड है. यूनेस्को की ऐतिहासिक धरोहरों में शामिल एलिफैंटा का प्राकृतिक सौंदर्य, मूर्तियां, गुफाएं और मंदिर देसी-विदेशी पर्यटकों को लुभाते हैं. उम्मीद की जा रही है कि रोप-वे बनने के बाद एलिफैंटा जाने वाले पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी. अभी लगभग 5 हजार पर्यटक हर रोज एलिफैंटा जाते हैं. उम्मीद है कि ये संख्या 15 हजार से ज्यादा हो जायेगी.
Loading...

ये भी पढ़ें -

गृह मंत्री अमित शाह ने बताया- NRC में नाम नहीं आया तो घबराने की ज़रुरत नहीं, बस ये करना होगा...
योगी कैबिनेट विस्तार से पहले यूपी में 5 मंत्रियों का इस्तीफा, मचा हड़कंप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 20, 2019, 5:28 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...