जल्द बदलेगा मुंबई ट्रैफिक पुलिस का लहज़ा, नागरिकों को कहेगी सर, मैडम या श्रीमान, श्रीमती

ट्रैफिक डिवीजन में 3,000 से अधिक पुलिसकर्मी हैं (सांकेतिक तस्वीर)
ट्रैफिक डिवीजन में 3,000 से अधिक पुलिसकर्मी हैं (सांकेतिक तस्वीर)

Mumbai News: ट्रैफिक पुलिस को बात करने के दौरान अपना स्वर बदलने के लिए एक सप्ताह का समय दिया जाएगा और उसके बाद अगर उनमें से कोई भी किसी के साथ भी बेरहमी से बात करता हुआ दिखाई देता है तो उसके खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई की जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 7:38 PM IST
  • Share this:
मुंबई. हाल ही में मुंबई पुलिस (Mumbai Police) के नियुक्त संयुक्त पुलिस आयुक्त (यातायात) (Joint Commissioner of Police (Traffic)) यशस्वी यादव ने एक परिपत्र जारी किया है जिसमें कहा गया है कि यातायात पुलिस (Traffic Police) के लिए विनम्रता का पालन करना अब आगे से अनिवार्य होगा.  यादव ने कहा, "हम यातायात उल्लंघन करने वालों को कानून के साथ साथ विनम्रता से भी ठीक करेंगे. मैंने अपने कर्मियों से आम नागरिकों को 'सर', 'मैडम' या 'श्रीमान' और 'श्रीमती' के रूप में संबोधित करने के लिए कहा है."

यादव ने कहा, "वाहन चालकों और यातायात पुलिस के बीच बहुत सारे झगड़े होते हैं. हमने यह भी देखा है कि इस तरह के हाथापाई के पीछे अशिष्टता ही कारण है और ज्यादातर लोग पुलिस का आमना-सामना करने से नफरत करते हैं. यह परिपत्र पुलिस और आम आदमी के बीच एक सम्मानजनक बंधन का निर्माण करेगा." अधिकारी ने कहा “एक व्यक्ति को आम तौर पर यातायात नियमों के बारे में पता होता है जिसे उसने तोड़ा है. लेकिन अगर यह विनम्रता से उनसे कहा जाए, तो व्यक्ति भविष्य में इसे दोहराने से पहले निश्चित रूप से सोचेंगे.





ये भी पढ़ें- कोरोना काल में कर रहे हैं ट्रेन का सफर तो ध्यान रखें ये बातें, हो सकती है जेल
नियम न मानने वाले पुलिसकर्मी पर होगी कार्रवाई
यादव ने आगे कहा, "हमने सोचा कि विनम्रता और अच्छे से बात करना पुलिसकर्मियों और नागरिकों के बीच बेहतर संवाद के लिए बहुत मददगार होगा." यादव ने कहा, "ट्रैफिक पुलिस को बात करने के दौरान अपना स्वर बदलने के लिए एक सप्ताह का समय दिया जाएगा और उसके बाद अगर उनमें से कोई भी किसी के साथ भी बेरहमी से बात करता हुआ दिखाई देता है तो उसके खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई की जाएगी."

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान-चीन के मानवाधिकार परिषद में दोबारा चयन पर विवाद, अमेरिका बोला- इसीलिए हम अलग हुए

ट्रैफिक डिवीजन में 3,000 से अधिक पुलिसकर्मी हैं और लगभग 2,500 ट्रैफिक पुलिसकर्मी सड़क पर रोजाना लोगों के साथ बातचीत करते हैं.

इससे पहले 2006 में, ठाणे के तत्कालीन पुलिस आयुक्त डी शिवनंदन द्वारा एक समान परिपत्र जारी किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज