लाइव टीवी

उद्धव ठाकरे ने फिर BJP के पाले में डाली गेंद, बोले- जल्द सत्ता में होगी शिवसेना

भाषा
Updated: November 3, 2019, 8:24 PM IST
उद्धव ठाकरे ने फिर BJP के पाले में डाली गेंद, बोले- जल्द सत्ता में होगी शिवसेना
सरकार गठन को लेकर फिर बोले उद्धव ठाकरे

उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने रविवार को कहा कि लोगों को जल्दी ही इस बात की जानकारी हो जाएगी कि उनकी पार्टी राज्य में सत्ता में होगी.

  • Share this:
औरंगाबाद. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार के गठन को लेकर खींचतान के बीच शिवसेना (Shiv Sena) अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने एक और बयान दिया है. उद्धव ठाकरे ने रविवार को कहा कि लोगों को जल्द ही इस बात की जानकारी हो जाएगी कि उनकी पार्टी राज्य की सत्ता में होगी. साथ ही कहा कि महाराष्ट्र में असमय हुई बारिश के कारण किसानों की फसल के नुकसान के लिए राज्य सरकार की ओर से दस हजार करोड़ के पैकेज की घोषणा अपर्याप्त है.'सत्ता में होगी शिवसेना'

महाराष्ट्र विधानसभा के लिए 21 अक्टूबर को हुए मतदान के परिणाम के बाद भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री का पद साझा करने को लेकर जबरदस्त खींचतान चल रही है और अब तक सरकार गठन को लेकर औपचारिक बातचीत शुरू नहीं हो सकी है. ठाकरे ने मीडिया के एक सवाल का जवाब देते हुए कहा, ‘आपको आने वाले दिनों में जानकारी हो जाएगी कि शिवसेना (प्रदेश में) सत्ता में होगी.’ इसके बाद पूछे गए किसी भी राजनीतिक सवाल का जवाब देने से उद्धव ने मना कर दिया.

उद्धव ने साधा बीजेपी पर निशाना
बता दें कि पिछले महीने असमय हुई बारिश के बाद वह फसल के नुकसान का जायजा लेने के लिए औरंगाबाद आए थे. ठाकरे ने कहा कि उन्होंने कन्नड एवं वैजापुर जिलों के किसानों के साथ बातचीत की. उन्होंने राज्य नेतृत्व पर हमला बोलते हुए कहा, ‘क्षति की समीक्षा हेलीकाप्टर से नहीं की जा सकती है’

किसानों को मिलने चाहिए अधिकार
ठाकरे ने कहा, ‘बेमौसम हुई बारिश के कारण किसानों के फसल नुकसान के लिए दस हजार करोड़ का मुआवजा अपर्याप्त है. उन्होंने ये भी कहा कि किसानों को प्रति हेक्टेयर 25 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि किसानों के अधिकार उन्हें मिलने ही चाहिए.

 सरकार बताए ICP से देश को कैसे होगा फायदा
Loading...

ठाकरे ने केंद्र सरकार से यह मांग की कि वह लोगों को यह बताए कि क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक सहयोग (आरसीईपी) से देश को किस प्रकार फायदा होगा. आरसीईपी में आसियान के दस देशों के अलावा भारत, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसे छह अन्य देश शामिल हैं जो मुक्त व्यापार के लिए बातचीत कर रहे हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को कहा कि आरसीईपी समझौते पर हस्ताक्षर करने के परिणामस्वरूप किसानों, दुकानदारों और छोटे उद्यमों के लिए ‘‘अनकही कठिनाई’’ होगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 3, 2019, 5:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...