• Home
  • »
  • News
  • »
  • maharashtra
  • »
  • हिंदुत्व के लिए शिवसेना-बीजेपी गठबंधन जरूरी, क्या देश को कांग्रेस के हाथ छोड़ना उचित होता?- उद्धव ठाकरे

हिंदुत्व के लिए शिवसेना-बीजेपी गठबंधन जरूरी, क्या देश को कांग्रेस के हाथ छोड़ना उचित होता?- उद्धव ठाकरे

फाइल फोटो

फाइल फोटो

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पार्टी के मुखपत्र सामना को दिए इंटरव्यू में शिवसेना-बीजेपी गठबंधन को देश और हिंदुत्व की जरूरत बताते हुए सवाल किया है कि क्या देश को फिर से कांग्रेस व भ्रष्टाचारियों के हाथ में छोड़ना उचित होता?

  • Share this:
    शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पार्टी के मुखपत्र सामना को दिए इंटरव्यू में शिवसेना-बीजेपी गठबंधन को देश और हिंदुत्व की जरूरत बताते हुए सवाल किया है कि क्या देश को फिर से कांग्रेस व भ्रष्टाचारियों के हाथ में छोड़ना उचित होता?

    'अब मैं अलग भूमिका में हूं'

    उद्धव ठाकरे ने कहा कि चुनाव की तारिखों के ऐलान होने से पहले वे एक अलग भूमिका में थे, लेकिन पिछले डेढ़ महीने से वे एक दूसरी भूमिका में हैं. शिवसेना हमेशा के जनता के मुद्दों को उठती रही है. यहां तक की संसद में विपक्ष भी जनता के सवाल ठीक ढंग से नहीं उठा पा रहा था, तब भी शिवसेना सत्ता के सामने कभी लाचार नहीं रही. उद्धव ने कहा- “आप पूछेंगे कि अब गठबंधन क्यों किया गया? बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह एक बार नहीं, दो बार मेरे घर आकर मुझसे मिले. मैंने उनके सामने भी जनता के सवाल रखे. मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस भी उनके साथ थे. एनडीए में रहकर भी शिवसेना उनके विरोध में बोलती रही इसमें हमारा व्यक्तिगत स्वार्थ नहीं था. मैंने इस संबंध में जो कुछ कहा उसका मुझे कोई पछतावा नहीं है. मैंने जो मुद्दे उठाए वे बीजेपी ने अब स्वीकार किए हैं.”

    बीजेपी और शिवसेना के बीच आई खटास पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि कुछ बातें ऐसी हुई जिसने कारण दोनों में दूरियां बढ़ गईं, लेकिन इन्हें खत्म करने की कोशिश की गई है. हिंदुत्व के मुद्दे पर उस वक्त भी गठबंधन किया गया था और आज भी हिंदुत्व के धागे ने ही हमें बांधे रखा है. देश में महागठबंधन के सवाल पर उद्धव ने कहा कि पहले भी ऐसे प्रयास हुए हैं. इंदिराजी के समय भी विरोधी एकजुट हुए थे, लेकिन चंद महीनों बाद सरकार ही धराशाई हो गई. उस वक्त कम से कम जयप्रकाश नारायण जैसे नेता तो थे. फिलहाल जो सबको एकत्रित कर सके, ऐसा कोई चेहरा ही नहीं है. सबको प्रधानमंत्री बनना है यानी फिर से झगड़े होने तय हैं.

    ये भी पढ़ें- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्धा में रैली में कही ये 10 बड़ी बातें

    शत्-प्रतिशत शिवसेना का अर्थ-

    उद्धव ठाकरे ने शत-प्रतिशत शिवसेना व स्वावलंबन का नारा दिया था. अब फिर से बीजेपी से गठबंधन करने के सवाल पर उनका कहना है कि शत-प्रतिशत शिवसेना का अर्थ है, सौ टका हमारे विचारों की शिवसेना या सौ फीसदी शिवसेना के विचार. उन्होंने खुद ही ये भी याद दिलाया कि एक बार उन्होंने ये बयान भी दिया था कि गठबंधन के कारण हमारे पिछले 25 साल बेकार हो गए. इसके बावजूद वे एक बार फिर बीजेपी के साथ ही गठबंधन में हैं.

    उद्धव ठाकरे ने अपनी बात को समझाते हुए कहा कि 25 साल सड़ जाने का अर्थ है कि गठबंधन के बाद हम सावधान नहीं रहे, इस वजह से गठबंधन के बाद कुछ गड़बड़ी हुई, जो अब नहीं होगी. उन्होंने कहा कि शिवसेना केवल एक पार्टी नहीं बल्कि एक विचार है.

    ये भी देखें- अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की बहन का घर हुआ नीलाम, मिली इतनी कीमत

    राहुल गांधी और कांग्रेस मुक्त भारत

    उन्होंने ये भी कहा कि 2014 और 2019 की परिस्थति में वैसा कोई फर्क नहीं है. उस वक्त भी विरोधी पक्ष में कोई वैसा नेता नहीं था और आज भी नहीं है. राहुल गांधी पर चर्चा करते हुए वे बोले, “राहुल गांधी वास्तव में क्या कर रहे हैं? ये भी सवाल लोगों के सामने है. कभी लगता है कि वे सही बात बोलते हैं और कभी लगता है कि अरे! ये क्या गड़बड़ कर दी.”

    उद्धव ने कहा कि वे कांग्रेसमुक्त भारत जैसी फालतू कल्पना उनके पास नहीं है. विपक्ष का होना बेहद जरूरी है. कई बार तो विपक्ष की भूमिका सत्ता पक्ष से भी अहम होती है. ये सही है कि आज कांग्रेस के पास उस ऊंचाई के नेता नहीं है, जैसे- स्व. नरसिंहराव थे. नरसिंहराव ने निश्चित रूप से अच्छे कार्य किए थे. मनमोहन सिंह सरकार ने पहले 5 साल अच्छा ही काम किया. उन्होंने कहा कि बेरोजगारी ये सबसे ज्वलंत सवाल है और उसे हल करना ही होगा.  उन्होंने कहा कि राहुल और प्रियंका के प्रति कोई द्वेष नहीं है. ये दोनों तैयार हो रहे हैं. लेकिन अभी भी राहुल गांधी देश का नेतृत्व कर सकेंगे, ऐसा लगता नहीं है.

    लोगों को 15 लाख या 72,000 रूपए दिए जाने की घोषणा पर चर्चा करते हुए उद्धव बोले कि शिवसेना की नीति है कि वोट लेने के लिए लोगों से झूठ न बोला जाए,  जनता को सब्जबाग न दिखाए जाएं. उद्धव ने सभी पार्टियों से अपील की कि वे अव्यवहारिक व झूठे आश्वासनों से बचें.

    ये भी पढ़ें- युवा वोटरों को लुभाने के लिए शिवसेना का नया पेंतरा, आदित्‍य ठाकरे करेंगे संवाद

    रिश्ता बीजेपी-शिवसेना का

    ठाकरे ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री फडणवीस से भी सार्वजनिक रूप से सवाल किया था कि क्या पिछले 5 साल में उन्होंने कभी सरकार को दगा दिया क्या..? क्या किसी व्यक्तिगत काम के लिए उसने कोई आग्रह किया..? क्या राज्य के विकास के किसी भी काम में शिवसेना कभी आड़े आई..? विवाद हुए वे भी जनहित के मुद्दों पर और इसीलिए मैं आज फिर से ये गठबंधन कर सका हूं. गठबंधन के भविष्य के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि शिवसेना का स्वभाव है कि- “हम कभी दगा नहीं देंगे और हमें कभी दगा मत देना. पिछले 2-3 दशकों में हम जिनके खिलाफ मिलकर लड़े उसे याद रखें. मुझे लगता है कि ये गठबंधन लंबे समय तक चलेगा.”

    बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के राज्य की सत्ता में आने पर महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री कौन होगा इस सवाल का जवाब उद्धव ने सीधे तौर पर नहीं दिया. उन्होंने कहा कि जवाबदारी और अधिकार समान रूप से बांटे जाएंगे. वे शिवसैनिकों को कभी लाचार नहीं होने देंगे.

    ये भी पढ़ें- मुंबई ब्रिज हादसे के बाद वानखेड़े स्‍टेडियम का फुटओवर ब्रिज किया गया बंद

    'मैं भी चौकीदार' अभियान पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि ये एक अच्छी पहल हो सकती है. मैं एक सामान्य व्यक्ति हूं और साथ ही शिवसैनिक भी हूं. ऐसे में सैनिक होने के साथ उन्हें नए तौर चौकीदार होने की जरूरत नहीं है.

    चुनाव के बाद प्रधानमंत्री कौन होगा? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि आज नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री हैं और विरोधी पक्ष में ऐसा कोई चेहरा नहीं है. उन्हें नहीं लगता कि प्रधानमंत्री पद पर मोदी के अलावा किसी और को बैठाया जाए, ऐसा वक्त आया है.

    मोदी है तो मुमकिन है. उद्धव ठाकरे है तो मुमकिन है और नमकीन भी है. किसी को अच्छा लगे इसलिए मैं कभी झूठ नहीं बोलूंगा. लेकिन ये सही है कि विचारों में स्पष्टता वाला व्यक्ति यदि प्रधानमंत्री बनता है तो हर बात मुमकिन है. मोदीजी कुछ काम निश्चित ही अच्छे किए है. ये सरकार निर्णय लेने वाली सरकार है कम से कम इतनी छवि तो बनी है.

    ये भी पढ़ें- मैं कभी नहीं कहता कांग्रेस मुक्‍त भारत हो: उद्धव ठाकरे

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज