लाइव टीवी
Elec-widget

24 नवंबर को अयोध्या नहीं जाएंगे उद्धव ठाकरे, शिवसेना ने बताई वजह

भाषा
Updated: November 18, 2019, 2:57 PM IST
24 नवंबर को अयोध्या नहीं जाएंगे उद्धव ठाकरे, शिवसेना ने बताई वजह
24 नवम्बर को अयोध्या नहीं जाएंगे उद्ध ठाकरे.

शिवसेना (Shiv Sena) के एक नेता ने कहा, ‘‘सरकार गठन की प्रक्रिया में समय लग रहा है. तीन दलों (शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस) के नेता बैठक कर रहे हैं.

  • Share this:



मुंबई. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने सोमवार को दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और राकांपा सुप्रीमो शरद पवार के बीच होने वाली बैठक से पहले  24 नवम्बर को निर्धारित अपनी अयोध्या की यात्रा को स्थगित कर दिया है. शिवसेना के एक नेता ने सोमवार को यह जानकारी दी. गौरतलब है कि रामजन्म भूमि (Ramjanm Bhoomi)- बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीते 9 नवंबर उद्धव ठाकरे ने घोषणा की थी कि वो 24 नवंबर को अयोध्या जाएंगे. ऐसे में अचानक यात्रा स्थगित करना चर्चा का विषय बन गया है.

वहीं, शिवसेना के एक नेता ने कहा, ‘‘सरकार गठन की प्रक्रिया में समय लग रहा है. तीन दलों (शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस) के नेता बैठक कर रहे हैं. वे सरकार गठन की ओर आगे बढ़ रहे हैं. इन गतिविधियों के मद्देनजर उद्धव ठाकरे ने अयोध्या का अपना दौरा स्थगित करने का फैसला किया है.’’ वहीं, शिवसेना के दूसरे नेता ने कहा, ‘‘सुरक्षा एजेंसियों ने अयोध्या में रामजन्म भूमि स्थल जाने की योजना बना रहे राजनीतिक दलों को अनुमति देने से पहले ही इनकार कर दिया है.’’ इस वजह से यात्रा स्थगित करनी पड़ी.

सोमवार को मुलाकात करेंगे
उल्लेखनीय है कि राकांपा के प्रवक्ता नवाब मलिक ने यहां रविवार शाम को बताया था कि पवार और सोनिया सोमवार को मुलाकात करेंगे. वे महाराष्ट्र में एक वैकल्पिक सरकार के गठन की संभावना पर विचार करेंगे. राज्य में 12 नवंबर से राष्ट्रपति शासन लागू है. उन्होंने बताया था कि राकांपा और कांग्रेस के नेता मंगलवार को मुलाकात करेंगे और भविष्य की रणनीति पर विचार-विमर्श करेंगे.

राष्ट्रपति शासन लागू
Loading...

बता दें कि विधानसभा चुनाव परिणाम की घोषणा के बाद किसी भी पार्टी या गठबंधन के सरकार बनाने का दावा पेश नहीं करने के बाद महाराष्ट्र में 12 नवम्बर को राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था. मुख्यमंत्री पद साझा करने को लेकर सहमति नहीं बन पाने पर भाजपा के साथ गठबंधन टूटने के बाद शिवसेना समर्थन के लिए कांग्रेस-राकांपा गठबंधन के पास गई थी. 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा ने 105 और शिवसेना ने 56 सीटों पर जीत दर्ज की थी. वहीं, कांग्रेस और राकांपा को क्रमश: 44 और 54 सीटों पर जीत मिली थी.

ये भी पढ़ें-  

14 रिश्‍तेदारों की हुई मौत तो बचने के लिए 30 साल से दुल्‍हन बनकर रह रहा आदमी

50 अंडे खाने की लगाई थी शर्त, 42 के बाद हुई मौत, परिवार ने कहा झूठ है ये


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 2:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...