लाइव टीवी

उद्धव का सवाल- महबूबा के साथ BJP जा सकती है तो कांग्रेस-NCP के साथ हम क्यों नहीं?

News18Hindi
Updated: November 13, 2019, 6:27 AM IST

महाराष्ट्र (Maharashtra) में चल रहे हाईवोल्टेज सियासी ड्रामे के बीच शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 13, 2019, 6:27 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) में चल रहे हाईवोल्टेज सियासी ड्रामे के बीच शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. उन्होंने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) पर आरोप लगाते हुए कहा कि हमें अपेक्षा थी कि हमें और समय दिया जाएगा लेकिन अचानक ऐसा नहीं हुआ. अचानक एक लेटर हमारे पास आया और हमें बताया गया कि हमारे पास टाइम नहीं है.

उद्धव ठाकरे ने कहा,  'कल पहली बार एनसीपी (NCP) को गवर्नर ने सरकार बनाने के लिए बुलाया था. कल भी हमने राज्यपाल से सरकार बनाने के लिए समय मांगा था. हमें 48 घंटे का समय चाहिए था और हम अब भी इस पर कायम हैं. हमें कुछ मुद्दों को लेकर कांग्रेस-एनसीपी से बातें स्पष्ट करनी हैं. आज तक महाराष्ट्र को ऐसा राज्यपाल नहीं मिला. ऐसा राज्यपाल अगर सभी राज्यों को मिल गया तो दूसरे राज्यों का सत्यानाश हो जाएगा. कांग्रेस-एनसीपी के साथ हम कॉमन मिनिमम प्रोग्राम पर बात करेंगे.'

NCP-कांग्रेस के साथ सरकार बनाने पर बोले उद्धव
उद्धव ने कहा, 'हमसे पूछा जा रहा है कि कांग्रेस और एनसीपी के साथ कैसे आ जाएंगे? तो जवाब यही है कि जैसे नीतीश और बीजपी साथ आ गए वैसे ही हम तीनों साथ आ जाएंगे. जब बीजेपी महबूबा मुफ्ती के साथ सरकार बना सकती है तो हम क्यों नहीं? मोदी हटाओ की बात करने वाले चंद्रबाबू नायडू जब साथ आ गए तो हमारे साथ क्या आपत्ति है. हम कांग्रेस-एनसीपी के साथ बातचीत कर तय करेंगे कि किस बात पर एक होना है.

 

 राष्ट्रपति शासन के खिलाफ याचिका दायर नहीं करेंगे
ठाकरे ने कहा कि कांग्रेस-एनसीपी और हमारे बीच कई मुद्दों पर बातचीत होनी है और इस पर चर्चा शुरू भी हो गई है. अब हम राष्ट्रपति शासन के खिलाफ याचिका दायर नहीं करेंगे. राज्यपाल ने हमें सरकार बनाने के लिए 6 महीने का वक़्त दे दिया है, हम उसमें काम करेंगे.

हिंदुत्व का मतलब सिर्फ राम मंदिर बनाना नहीं
शिवसेना प्रमुख ने कहा कि हर बार बीजेपी ने जब भी हमसे संपर्क किया तो उन्होंने नई-नई शर्तें रखीं और और बातें की. ऐसे में उनसे और बात करने का कोई मतलब नहीं रह गया है. उद्धव ने बीजेपी पर हमला किया कि राम मंदिर बनाने का क्या फायदा, जब आप एक राम भक्त की तरह अपने किए वादे पर कायम नहीं रह सकते. हिंदुत्व का मतलब सिर्फ राम मंदिर बनाना नहीं है.

अरविंद सावंत की तारीफ
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उद्धव ठाकरे ने अरविंद सावंत का धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि मंत्रिपद का मोह सब को होता है लेकिन अरविंद सावंत ने पद त्यागने में कोई हिचिकिचाहट नहीं दिखाई. वो सच्चे शिवसैनिक हैं.
ये भी पढ़ें:

पहले भी 'विरोधियों' से हाथ मिला चुकी है शिवसेना, ऐसा रहा है इतिहास

महाराष्ट्र: एनसीपी को दिए समय से पहले क्यों लगा राष्ट्रपति शासन, ये है जवाब

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 8:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर