लाइव टीवी
Elec-widget

आदित्य की जगह अचानक सीएम के लिए क्यों आ गया उद्धव ठाकरे का नाम!

Anil Rai | News18Hindi
Updated: November 11, 2019, 7:00 PM IST
आदित्य की जगह अचानक सीएम के लिए क्यों आ गया उद्धव ठाकरे का नाम!
सूत्रों की माने तो शिवसेना आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री के रूप में पेश करना चाहती थी लेकिन नए बनते राजनीतिक समीकरण में एनसीपी प्रमुख शरद पवार इसके लिए तैयार नहीं थे.

महाराष्ट्र चुनावों (Maharashtra Assembly Election 2019) से ठीक पहले शिवसेना (ShivSena) ने उद्धव ठाकरे (Uddhav Thakrey) के बेटे और पार्टी के युवा चेहरे आदित्य ठाकरे को पार्टी के मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में पेश किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2019, 7:00 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र चुनावों (Maharashtra Assembly Election 2019) से ठीक पहले शिवसेना (ShivSena) ने उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के बेटे और पार्टी के युवा चेहरे आदित्य ठाकरे को पार्टी के मुख्यमंत्री के चेहरे के रूप में पेश किया. मुंबई समेत पूरे महाराष्ट्र में आदित्य के पोस्टर लगाए गए, यहां तक कि ठाकरे परिवार से पहली बार कोई मैदान में उतरा.

साफ था ठाकरे परिवार आदित्य को पार्टी और सरकार दोनों की विरासत देने की तैयारी में था लेकिन अब जब मुख्यमंत्री की कुर्सी शिवसेना के खाते में आती दिख रही है तो पार्टी ने अचानक आदित्य ठाकरे की जगह शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का नाम आगे कर दिया है. ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि आखिर शिवसेना ने अचानक ये फैसला क्यों ले लिया? क्या ये फैसला पार्टी की किसी नई रणनीति का हिस्सा है या सहयोगी दलों के दबाव के कारण ये फैसला लिया गया है?

आदित्य की जग उद्धव का नाम लाने की ये है असली वजह
सूत्रों की माने तो शिवसेना आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री के रूप में पेश करना चाहती थी लेकिन नए बनते राजनीतिक समीकरण में एनसीपी प्रमुख शरद पवार इसके लिए तैयार नहीं थे. पवार ने साफ कह दिया कि आदित्य के नाम पर एनसीपी समर्थन नहीं कर सकती. अगर शिवसेना उद्धव ठाकरे का नाम सामने लाए तो समर्थन पर विचार किया जा सकता है. ऐसे में पार्टी ने तुरंत अपनी रणनीति बदलते हुए युवा जोश को जगह अनुभव को तरजीह दी और उद्धव ठाकरे का नाम आगे कर दिया.

शिवसेना ने पहले ही दे दिया था संकेत
हालांकि शिवसेना ने 31 अक्टूबर को अपने विधायक दल की बैठक में ये संकेत दे दिया था कि पार्टी आदित्य ठाकरे के नाम पर नहीं अड़ेगी. शिवसेना के विधायकों ने आदित्य ठाकरे की जगह एकनाथ शिंदे को विधायक दल का नेता चुना ताकि जब कभी राजनीतिक गठजोड़ की बात हो आदित्य का नाम आड़े न आए. हालांकि ये प्रस्ताव बीजेपी के लिए था लेकिन एनपीसी प्रमुख की शर्त जब सामने आई तो शिवसेना का ये दाव यहां भी काम कर गया.
ये भी पढ़ें:
Loading...

ANALYSIS: बहुत ताकतवर होना ही बन गया महाराष्‍ट्र में BJP की कमजोरी

'BJP जब PDP के साथ मिलकर बना सकती है सरकार तो हम NCP के साथ क्यों नहीं?'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 3:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...