मुम्बई का छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस बना महाराष्ट्र का पहला ग्रीन स्टेशन, मिला गोल्ड अवार्ड

 ग्रीन स्टेशन के साथ-साथ सीएसएमटी स्टेशन गोल्ड अवॉर्ड से सम्मानित होने वाला पहला स्टेशन है. . (फोटो साभार-PTI)

ग्रीन स्टेशन के साथ-साथ सीएसएमटी स्टेशन गोल्ड अवॉर्ड से सम्मानित होने वाला पहला स्टेशन है. . (फोटो साभार-PTI)

सीएसएमटी स्टेशन को जिन विशेषताओं के लिए ग्रीन स्टेशन और गोल्ड अवॉर्ड से सम्मानित होने का अवसर मिला है उसमें स्टेशन को अलग-अलग विकलांग और वरिष्ठ नागरिकों के लिए कम्यूटर फ्रेंडली बनाया गया है.

  • Share this:
मुम्बई. मुम्बई के बड़े और प्रसिद्ध स्टेशनों में से एक छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस यानी सीएसएमटी स्टेशन (CSMT Station) को महाराष्ट्र के पहले ग्रीन स्टेशन से सम्मानित किया गया है. ग्रीन स्टेशन का यह सर्टिफिकेट भारतीय उद्योग संघ के IGBC यानी इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल की तरफ से दिया गया है. ग्रीन स्टेशन के साथ-साथ सीएसएमटी स्टेशन गोल्ड अवॉर्ड से सम्मानित होने वाला पहला स्टेशन है. इस स्टेशन के यह अवॉर्ड हरित क्षेत्र बनाने, सौर पैनलों की स्थापना, एलईडी बल्ब, विकलांग और वरिष्ठ नागरिकों के लिए कंप्यूटर फ्रेंडली बनाने जैसी कई विशेषताओं के लिए मिला है.

मध्य रेलवे के प्रवक्ता शिवाजी सुतार ने पहले ग्रीन स्टेशन का अवॉर्ड मिलने पर खुशी जताते हुए कहा कि यह मध्य रेलवे के तमाम कर्मचारियों की दिन-रात मेहनत और उनके प्रयासों का नतीजा है और इसका श्रेय सभी लोगों को जाता है. सीएसएमटी स्टेशन को जिन विशेषताओं के लिए ग्रीन स्टेशन और गोल्ड अवॉर्ड से सम्मानित होने का अवसर मिला है उसमें स्टेशन को अलग-अलग विकलांग और वरिष्ठ नागरिकों के लिए कम्यूटर फ्रेंडली बनाया गया है.

ये भी पढ़ें- भारत सबसे ज्यादा अंक लाकर भी फाइनल से हो सकता है बाहर, जानें कैसे



स्टेशन पर लगाए गए एलईडी लैंप
पार्किंग स्थल में इलेक्ट्रिक 2 और 4 व्हीलर को प्रोत्साहित करने के लिए कुछ पार्किंग स्थानों के लिए इलेक्ट्रिक चार्जिंग पॉइंट लगाये गये है. स्टेशन स्थल का 15% से अधिक क्षेत्र पेड़ों और छोटे पार्कों से आच्छादित है. जैविक खाद से लैंडस्केप क्षेत्र, लॉन आदि का रखरखाव किया जाता है. छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस स्टेशन साइट पर 245 kWp सोलर पैनल लगाए हैं. स्टेशन के 100% लैम्पों को एलईडी में बदल दिया गया है.

विभिन्न कार्यालयों और प्रतीक्षालयों में 17 सेंसर स्थापित ऊर्जा कुशल बीएलडीसी और एचवीएलएस पंखों को विभिन्न स्थानों पर स्थापित किया जाता है. व्यापक मैकेनाइज्ड क्लीनिंग कॉन्ट्रैक्ट प्लेटफॉर्म, कॉनकोर्स, सर्कुलेटिंग एरिया, पार्किंग स्थल, ट्रैक, रूफ टॉप, शटर, वेटिंग हॉल आदि पर ध्यान केंद्रित किया गया है. ठेकेदारों द्वारा उपयोग किए जाने वाले रसायन बायो-डिग्रेडेबल और इको-फ्रेंडली हैं.

ये भी पढ़ें- जानें महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने क्यों कहा, विलेन कहलाने से नहीं डरता

स्मार्ट यात्री सुविधाएं जैसे वाईफाई, स्वचालित टिकट वेंडिंग मशीनें, पर्यटन सूचना और बुकिंग केंद्र, खाद्य न्यायालय, फार्मेसी और चिकित्सा सुविधा आदि उपलब्ध हैं. प्लास्टिक प्रतिबंध के उपाय. स्टेशन में "प्लास्टिक बैग के उपयोग से बचें" बताते हुए साइनेज स्थापित है, और प्लास्टिक बैग के प्रतिकूल पर्यावरणीय प्रभावों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए डिजिटल डिस्प्ले बोर्ड हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज