मुंबई का 'ऑक्सीजन मैन' बना मसीहा, लोगों की मदद के लिए बेची कार, तैयार किया वॉर रूम

केंद्र सरकार भी लगातार ऑक्सीजन को लेकर कड़े कदम उठाती हुई नजर आ रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

केंद्र सरकार भी लगातार ऑक्सीजन को लेकर कड़े कदम उठाती हुई नजर आ रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Mumbai Oxygen Man: मरीजों तक ऑक्सीजन सप्लाई जारी रखने के लिए शेख ने अपनी एसयूवी तक बेच दी है. वे बताते हैं कि 22 लाख रुपये में गाड़ी बेचने के बाद 160 ऑक्सीजन सिलेंडर (Oxygen Cylinder) खरीदकर मरीजों तक पहुंचाया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 22, 2021, 2:08 PM IST
  • Share this:
मुंबई. कोरोना वायरस (Coronavirus) मरीजों के लिए ऑक्सीजन पर्याप्त मात्र में नहीं है. ऐसी खबरें लगातार सामने आ रही हैं. सरकारों के प्रयासों के बीच कई लोग ऐसे भी हैं, जो अपने स्तर पर लोगों की मदद कर रहे हैं. इन्हीं लोगों में मुंबई के शाहनवाज शेख (Shahnawaz Sheikh) का नाम भी शामिल है. शेख की तरफ से मिल रही मदद ने उन्हें इलाके में 'ऑक्सीजन मैन' बना दिया है. वे लगातार अपने स्तर पर लोगों तक ऑक्सीजन पहुंचाने का काम कर रहे हैं.

मदद के लिए बेच दी अपनी कार

मीडिया रिपोर्ट्स बताती हैं कि शेख के पास लोगों के लगातार ऑक्सीजन की मांग के साथ फोन आ रहे हैं. ऐसे में सभी तक मदद पहुंचाने की कोशिश करते हैं, लेकिन सीमित संसाधन होने के चलते वे कुछ ही लोगों तक मदद पहुंचा पाते हैं. इतना ही नहीं उन्होंने मरीजों तक ऑक्सीजन सप्लाई जारी रखने के लिए अपनी एसयूवी तक बेच दी है. वे बताते हैं कि 22 लाख रुपये में गाड़ी बेचने के बाद 160 ऑक्सीजन सिलेंडर खरीदकर मरीजों तक पहुंचाया.

यह भी पढ़ें: पटना के 'ऑक्सीजन मैन' गौरव: खुद कोरोना पॉजिटिव हुए तो महसूस की दिक्‍कत, अब तक 900 लोगों की बचा चुके हैं जान
Youtube Video


दोस्त की पत्नी ने दम तोड़ तो लिया मदद का प्रण

रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि बीते साल उनके एक दोस्त की पत्नी को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी थी. लेकिन कमी होने के चलते उनकी ऑटो रिक्शा में ही मौत हो गई. इस घटना के बाद से ही उन्होंने लोगों की मदद करने की ठानी. आज आलम यह है कि उन्होंने जरूरतमदों के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है. साथ ही लोगों को मदद सही समय पर मिलती रहे, इसके लिए वॉर रूम भी तैयार किया है.





बताया जा रहा है कि वे अब तक 4 हजार से ज्यादा लोगों तक ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचा चुके हैं. वे बताते हैं कि पहले ऑक्सीजन के लिए आने वाले कॉल की संख्या 50 तक होती थी, लेकिन अब यह बढ़कर 500 से ज्यादा हो गई है. बीते साल शुरू ही कोरोना वायरस महामारी के दौर में भी उन्होंने जरूरतमंदों तक ऑक्सीजन पहुंचाई थी. हालांकि, उस दौरान उन्हें आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ा था, जिसके बाद उन्होंने अपनी कार बेचने का फैसला किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज