कोई नहीं जानता कि कब तक रहेगा कोरोना, बदतर स्थिति के लिए तैयार रहेंः गडकरी

‘रेमडेसिविर’ की कमी के बारे में गडकरी ने कहा कि देश में केवल चार दवा कंपनियों के पास ही कोविड-19 रोधी इस दवा का निर्माण करने का लाइसेंस है. (पीटीआई फाइल फोटो)

‘रेमडेसिविर’ की कमी के बारे में गडकरी ने कहा कि देश में केवल चार दवा कंपनियों के पास ही कोविड-19 रोधी इस दवा का निर्माण करने का लाइसेंस है. (पीटीआई फाइल फोटो)

Coronavirus in India: उन्होंने कहा कि एम्स नागपुर में 300 बिस्तर और जोड़े जा रहे हैं और अस्पताल के लिए विशाखापत्तनम से ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है.

  • Share this:
नागपुर. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने देश में कोविड-19 (Covid-19) की स्थिति को अत्यंत गंभीर करार देते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि महामारी से निपटने के लिए लंबे समय की तैयारी की जरूरत है. नागपुर स्थित राष्ट्रीय कैंसर केंद्र में गडकरी ने 100 बेड के निजी कोविड-19 देखभाल केंद्र का उद्घाटन करने के बाद यह बात कही. मौके पर बीजेपी नेता एवं महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस (Devendra Fadnavis) भी मौजूद थे.

गडकरी ने महामारी से निपटने के लिए दीर्घकालिक प्रबंधों की आवश्यकता पर जोरे देते हुए कहा, ‘‘स्थिति अत्यंत गंभीर है और कोई नहीं जानता कि यह कब तक रहेगी. लोगों को सर्वश्रेष्ठ के लिए सोचना चाहिए, लेकिन सबसे खराब के लिए तैयार रहना चाहिए.’’ नागपुर से सांसद गडकरी ने भिलाई से यहां के अस्पतालों के लिए 40 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति के बारे में भी जानकारी दी.

Youtube Video


उन्होंने कहा कि एम्स नागपुर में 300 बिस्तर और जोड़े जा रहे हैं और अस्पताल के लिए विशाखापत्तनम से ऑक्सीजन की आपूर्ति हो रही है. गडकरी ने विशाखापत्तनम के मेडिकल ‘डिवाइसेज पार्क’ से एक हजार वेंटिलेटर जुटाए जाने के बारे में भी जानकारी दी, जो नागपुर के अस्पतालों को उपलब्ध कराए जाएंगे. ‘रेमडेसिविर’ की कमी के बारे में गडकरी ने कहा कि देश में केवल चार दवा कंपनियों के पास ही कोविड-19 रोधी इस दवा का निर्माण करने का लाइसेंस है.
उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने बुधवार को इस दवा के निर्माण के लिए आठ और कंपनियों को अनुमति दे दी, जिससे ‘रेमडेसिविर’ की कमी का समाधान हो जाएगा. फडणवीस ने कहा कि नागपुर में बड़ी संख्या में महामारी के मामले सामने आ रहे हैं, जिससे अस्पतालों में बिस्तरों, दवाओं और ऑक्सीजन के भंडार की कमी हो गई है.



उन्होंने कहा, ‘‘स्थिति को देखते हुए, नितिन गडकरी के दिशा-निर्देश में हमने लोगों के इलाज के लिए राष्ट्रीय कैंसर केंद्र में कोविड-19 देखभाल केंद्र की स्थापना की है.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज