अपना शहर चुनें

States

अब घर-घर में लगेगी संघ की 'संस्कार शाला'

फाइल फोटो- गैटी इमेजेज
फाइल फोटो- गैटी इमेजेज

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने 'कुटुंब प्रबोधन' नाम की एक मुहिम शुरू की है.

  • Share this:
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने 'कुटुंब प्रबोधन' नाम की एक मुहिम शुरू की है. जिसके तहत संघ के कार्यकर्ता घर-घर जाकर लोगों को जीवन शैली समझाई जा रही है. साथ ही कार्यकर्ता लोगों से अपनी जीवन शैली में बदलाव लाने की अपील कर रहे हैं.

पूरे नागपुर को 12 हिस्सों में बांटकर संघ के कार्यकर्ता लोगों से मिल रहे हैं. इसके अलावा संघ की 'कुटुंब प्रबोधन' मुहिम पूरे देश में चलाई जाएगी. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुताबिक ये मुहिम 2019 के लोकसभा चुनाव तक जारी रहेगी.

कुटुंब प्रबोधन मुहिम का मकसद लोगों को भारतीय संस्कृति के करीब लाना है. प्रबोधन में लोगों को बताया जा रहा है कि त्योहार पर भारतीय परंपरा के मुताबिक कपड़े पहनें. खाने से पहले मंत्र पढ़ें. जन्मदिन में मोमबत्ती नहीं जलाएं. खाने खाते हुए टीवी न देखें. टीवी पर सामाजिक कार्यक्रम देखें. घर में फिल्म, राजनीति और क्रिकेट पर चर्चा न करें. परीक्षा में नकल न करें. सप्ताह में परिवार के लोग कम से कम एक बार साथ बैठें.



हालांकि, संघ की इस मुहिम का विरोध भी शुरू हो गया है. विरोधियों का मानना है कि इसके जरिए संघ अपना एजेंडा थोपने की कोशिश कर रहा है. संघ पर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा है कि संघ को लोगों को ये बताने की जरूरत नहीं कि उन्हें क्या खाना चाहिए और क्या पहनना चाहिए?
कुछ सामाजिक कार्यकर्ता भी संघ की मुहिम के पीछे सियासी मकसद देख रहे हैं. हालांकि विरोध से बेपरवाह संघ के कार्यकर्ता अपनी मुहिम में जुटे हुए हैं.

ये भी पढ़ें
कांवड़ियों के रूप में गांजा बेचने वाले तीन बदमाश पुलिस के हत्थे चढ़े
अखिलेश राज में UPPSC से हुई सारी भर्तियों की होगी CBI जांच: योगी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज