होम /न्यूज /महाराष्ट्र /बीएपीएस स्‍वामी नारायण मंदिर नासिक में मूर्ति प्रतिष्‍ठा महोत्‍सव संपन्‍न

बीएपीएस स्‍वामी नारायण मंदिर नासिक में मूर्ति प्रतिष्‍ठा महोत्‍सव संपन्‍न

बीएपीएस स्‍वामीनारायण मंदिर के नीलकंठ सभागार में प्रमुख स्‍वामी महाराज शताब्‍दी उद्घोष सभा के दौरान उपस्थित परम पूज्य महंत स्वामी महाराज.

बीएपीएस स्‍वामीनारायण मंदिर के नीलकंठ सभागार में प्रमुख स्‍वामी महाराज शताब्‍दी उद्घोष सभा के दौरान उपस्थित परम पूज्य महंत स्वामी महाराज.

स्‍वामी तीर्थस्‍वरूपदास जी ने बताया कि मूर्ति प्रतिष्‍ठा महोत्‍सव रविवार को संपन्‍न हो गया. समाप्ति के मौके पर प्रमुख स ...अधिक पढ़ें

नई दिल्‍ली. नासिक में नवनिर्मित गुलाबी पत्‍थरों से बने बीएपीएस स्‍वामीनारायण मंदिर में भगवान स्‍वामी नारायण जी की मूर्ति प्रतिष्‍ठा महोत्‍सव रविवार को संपन्‍न हो गया. इस दौरान लगातार दस दिनों तक कार्यक्रमों का आयोजन हुआ. समारोह से पूर्व नीलकंठ सभागार में प्रमुख स्‍वामी महाराज शताब्‍दी उद्घोष सभा और युवा दिन समारोह का आयोजन किया गया.

बीएपीएस के स्‍वामी तीर्थस्‍वरूपदास जी ने बताया कि मूर्ति प्रतिष्‍ठा महोत्‍सव के दौरान पूजा, दर्शन, विश्वशांति योग, सत्संग, महानुभाव सभा, बाल दिन, युवा दिन सभा काआयोजन किया गया. जिसमें सैंकड़ों संत और भारी संख्‍या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया.

स्‍वामी जी ने बताया कि ब्रह्म स्‍वरूप प्रमुख स्‍वामी जी महाराज का जन्‍म शताब्दी उत्‍सव 15 दिसंबर 2022 से 15 जनवरी 2023 तक मनाया जाएगा. बीएपीएस स्‍वामी नारायण संस्था द्वारा आयोजित जन्‍म शताब्‍दी समारोह पूरे विश्‍व में मनाया जाएगा. संस्‍था द्वारा विभिन्‍न सांस्‍कृति कार्यक्रम आयोजित कर लोगों को नैतिक और सदाचारी जीवन जीने के लिए प्रेरित किया जाएगा. परम पूज्य महंत स्वामी महाराज, बीएपीएस के आध्यात्मिक प्रमुखों के मार्गदर्शन से भारत और विदेशों से लाखों लोगों में नैतिक मूल्यों को जगाने के लिए आकर्षित किया जाएगा.

मंदिर के नीलकंठ सभागार में उपस्थित परम पूज्य महंत स्वामी महाराज.

मंदिर के नीलकंठ सभागार में उपस्थित परम पूज्य महंत स्वामी महाराज.

उन्‍होंने बताया कि मूर्ति प्रतिष्‍ठा महोत्‍सव की समाप्ति से पूर्व परम पूज्य महंत स्वामी जी महाराज की उपस्थिति में महाराष्ट्र के विभिन्न बीएपीएस सत्संग केंद्रों के बाल और युवा मंडल द्वारा प्रवचन, नाटिका और नृत्य जैसे सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से मंदिर में प्रमुख स्वामी महाराज जन्म शताब्दी समारोह उद्घोष सभा का आयोजन किया गया. इस सभा में स्‍वामी भक्तिप्रिय जी, स्‍वामी विवेकसागर जी समेत सैंकड़ों संतों, भक्‍तों, बच्‍चों, युवाओं और बुजुर्गों में भाग लिया.

गौरतलब है कि पवित्र स्‍थल नासिक में बीएपीएस स्‍वामीनारायण मंदिर की स्‍थापना के मौके पर 23 सितंबर से दो अक्‍तूबर तक प्राण प्रतिष्‍ठा महोत्‍सव का आयोजन किया गया .

मूर्ति प्रतिष्‍ठा महोत्‍सव के दौरान प्रमुख आयोजन

पूज्‍य महंत स्‍वामी जी महाराज गोदावरी तट पर पहुंचे

30 सितंबर को बीएपीएस स्‍वामी नारायण मंदिर के परम पूज्‍य महंत स्‍वामी जी महाराज 108 संतों के साथ नासिक में गोदावरी तट पर पहुंचे. इस दौरान उनके साथ सैकड़ों श्रद्धालु भी रहे. महंत स्‍वामी जी महाराज ने गोदावरी तट पर पूजा अर्चना भी की

मंदिर के नवनिर्मित सभागृह में पूजा अनुष्‍ठान

मंदिर के नवनिर्मित सभागृह में 29 नवंबर को पूजा अर्चना की गयी. परम पूज्‍य महंत स्‍वामी जी महाराज द्वारा अनुष्‍ठान और पूजा कर सभागार को पवित्र किया गया. सभागर की क्षमता 1200 श्रद्धालुओं की है. सभागार का नाम नीलकंठ सभागार भगवान स्वामीनारायण के नाम ‘नीलकंठ’ पर रखा गया है, जिन्होंने नासिक प्रवास के दौरान गोदावरी में स्नान किया था.

मूर्ति प्रतिष्‍ठा का आयोजन

28 सितंबर को भगवान श्री स्‍वामी नारायण जी की वैदिक विधि-विधान और अनुष्‍ठानों के साथ मूर्ति प्रतिष्‍ठा हुई. इस मौके पर परम पूज्‍य महंत स्‍वामी जी महाराज और महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री एकनाथ शिंदे समेत देशभर में आए बीएपीएस स्‍वामी नारायण संस्‍था के संत और श्रद्धालु शामिल हुए.

कुंभ की शाही यात्रा जैसी नगर यात्रा

मंदिर के स्‍थापना महोत्‍सव के मौके पर 27 सितंबर को नगर यात्रा निकाली गयी. इस आयोजन में बीएपीएस के पूज्‍य संत और भारी संख्‍या में श्रद्धालु शामिल हुए. यह यात्रा कुंभ की शाही यात्रा जैसी थी. यात्रा पूरे नासिक शहर में चार घंटे तक चली.

जल यात्रा निकाली गयी

बीएपीएस स्‍वामीनारायण मंदिर की महिला श्रद्धालुओं द्वारा नासिक में शहर में 26 सितंबर को जल यात्रा निकाली गयी. जल यात्रा के दौरान फूलों से सजाए गए वाहन में भगवान स्वामीनारायण की छवि रखी गई थी. यह जल यात्रा रामकुंड से शुरू हुई और मालवीय चौक, पंचवटी करंजा, निमाणी बस स्टैंड, पुराना आडगांव नाका रोड, तपोवन होकर केवड़ीबन स्थित स्वामीनारायण मंदिर में पूर्ण हुई.

Tags: Nashik, Temple

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें