होम /न्यूज /महाराष्ट्र /Nashik- आर्थिक तंगी ने ली जान! नासिक में एक ही परिवार के 3 लोगों ने मौत को लगाया गले, सुसाइड नोट भी बरामद

Nashik- आर्थिक तंगी ने ली जान! नासिक में एक ही परिवार के 3 लोगों ने मौत को लगाया गले, सुसाइड नोट भी बरामद

नासिक में एक ही परिवार के 3 लोगों ने एक साथ मौत को गले लगा लिया है. (सांकेतिक तस्वीर)

नासिक में एक ही परिवार के 3 लोगों ने एक साथ मौत को गले लगा लिया है. (सांकेतिक तस्वीर)

Maharashtra News: नासिक (Nashik) के एक फल व्यवसायी और उसके दो बेटों ने एक साथ आत्महत्या कर ली. पिता और दो बेटों ने अलग- ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

नासिक में एक ही परिवार के 3 लोगों ने फांसी लगा ली.
पुलिस को शवों के पास एक सुसाइड नोट भी मिला है.
आर्थिक तंगी के कारण पिता और दो बेटों ने सुसाइड किया.

रिपोर्ट- श्रेया

नासिक. महाराष्ट्र (Maharashtra) के नासिक (Nashik) से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. यहां एक परिवार में सामूहिक आत्महत्या (Family Sucide in Nashik) की खबर है. एक घर में एक ही परिवार के तीन लोगों ने मौत को गले लगा लिया है. पिता और दो बेटों ने अलग-अलग कमरों में फांसी लगाकर सुसाइड किया है. घटना रविवार के दिन की बताई जा रही. घटना के बाद से इलाके में सनसनी फैल गई है. इलाके के लोग खबर सुनकर काफी हैरान हैं.

प्राप्त जानकारी के अनुसार परिवार के तीन लोगों ने आर्थिक तंगी के कारण आत्महत्या की है. मृतकों की पहचान दीपक शिरोडे (पिता, उम्र 55 वर्ष), प्रसाद शिरोडे (बड़ा बेटा, उम्र 25 वर्ष), राकेश शिरोडे (छोटा बेटा, उम्र 23 वर्ष) के रूप में हुई है. दीपक शिरोडे की अशोक नगर इलाके में फल की एक दुकान थी. घटना के वक्त पत्नी और सबसे छोटा बेटा मंदिर गए थे. घर लौटने पर उन्होंने तीनों को फंदे से लटका पाया.

पढ़ें- फर्जी पुलिसवाले बनकर नाबालिग से किया दुष्कर्म, वीडिया भी बनाया…2 आरोपी गिरफ्तार

दीपक शिरोडे के परिवार की आर्थिक स्थिति काफी खबराब थी. उन्होंने कर्ज भी ले रखा था. पुलिस को शव के पास से एक सुसाइड नोट मिला है. इसमें बताया गया है कि उन्होंने आर्थिक तंगी के कारण यह कदम उठाया. घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया. सतपुर थाना के पुलिस अधिकारी सतीश घोटेकर ने कहा है कि पुलिस इस संबंध में मामला दर्ज करने की प्रक्रिया में है.

मृतक द्वारा छोड़े गए सुसाइड नोट में कहा गया है कि वे एक साहूकार के उत्पीड़न से बचने के लिए यह कदम उठा रहे हैं. साहूकार से उन्होंने पैसे उधार लिए थे. 29 जनवरी की दोपहर 12 बजे जब दीपक शिरोडे की पत्नी मंदिर से वापस लौटी और दरवाजा खटखटाया तो किसी ने दरवाजा नहीं खोला. इसके बाद उन्होंने आस-पड़ोस से मदद मांगी. दरवाजा तोड़कर जब लोग घर के अंदर गए तो वहां तीनों को फांसी के फंदे पर लटका पाया.

Tags: Maharashtra, Nashik, Suicide

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें