नदी में गंदगी फेंकने वालों को सीटी बजाकर रोकते हैं किशोर, विरोध करने वालों को पिलाते हैं गंदा पानी

नाशिक के चंद्र किशोर पाटिल (फोटो: Twitter/Swetha Boddu, IFS@swethaboddu)
नाशिक के चंद्र किशोर पाटिल (फोटो: Twitter/Swetha Boddu, IFS@swethaboddu)

आईएफएस अधिकारी श्वेता बोद्दु (Swetha Boddu) ने चंद्र किशोर पाटिल (Chandra Kishore Patil) की तस्वीर को ट्विटर पर शेयर किया था. किशोर लोगों से थैलियों को लेकर एक तरफ रख लेते हैं, जिसे बाद में नगर पालिका के लोग इकट्ठा कर डम्प यार्ड में ले जाते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 12:20 PM IST
  • Share this:
नाशिक. नदियों को गंदा करना लोगों की आदतों में शुमार हो चुका है, लेकिन लोगों की इसी आदत को बदलने का जिम्मा नाशिक (Nashik) के चंद्र किशोर पाटिल ने उठाया है. किशोर हर साल दशहरा (Dussehra) के मौके पर गोदावरी नदी (Godavari river) में गंदगी फेंकने वालों को रोकते हैं. इतना ही नहीं उन्होंने इसके लिए एक अलग तरीका भी खोजा है. आईएफएस अधिकारी श्वेता बोद्दु के ट्वीट के बाद किशोर मीडिया की सुर्खियां बन गए थे. उनके इस प्रयास के लिए लोगों से खूब सराहना मिल रही है.

जब तक स्वास्थ्य साथ देगा तब तक रखेंगे ध्यान
अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए किशोर ने बताया कि वे नदी के नजदीक ही बसी एक सोसाइटी में रहते हैं. उन्होंने बताया कि त्योहार के गुजरने के बाद नदी का पानी हर साल गंदा होता जा रहा है. ऐसे में उन्होंने पांच साल पहले इसे रोकने की कोशिश करने का फैसला किया. किशोर ने कहा 'मैं बीते पांच सालों से हर साल यह काम कर रहा हूं. और मैं इसे तब तक जारी रखूंगा जब तक मेरी तबियत मेरा साथ देती है.'

लोगों को पिलाते हैं गंदा पानी
उन्होंने कहा 'मैं सीटी लेकर सुबह 11 बजे से लेकर रात तक नदी के किनारे खड़ा हो जाता हूं और लोगों को नदी में गंदगी फेंकने से रोकता हूं.' उन्होंने बताया कि इस दौरान कई लोग उनके साथ गलत व्यवहार करते हैं, लेकिन वे फिर भी उन्हें गंदगी फैलाने से रोकते हैं. जब उनसे पूछा गया कि वे लोगों के विरोध का सामना कैसे करते हैं, तो उन्होंने बताया कि वह नदी के पानी से बोतलें भरते हैं और लोगों से एक घूंट पीने के लिए कहते हैं. जब लोग ऐसा करने से मना कर देते हैं, तो वह उन्हें नदी की गंदगी को लेकर जागरूक करते हैं.



अधिकारी ने दिया था किशोर के प्रयासों पर ध्यान
आईएफएस अधिकारी श्वेता बोद्दु ने किशोर की तस्वीर को ट्विटर पर शेयर किया था. उन्होंने लिखा था 'मैंने इस युवक को हाथ में सीटी लेकर दशहरा के मौके पर प्लास्टिक की थैलियों में गंदगी भरकर नदी में फेंकने वाले लोगों को सड़क पर पूरा दिन रोकते हुए देखा.' किशोर लोगों से थैलियों को लेकर एक तरफ रख लेते हैं, जिसे बाद में नगर पालिका के लोग इकट्ठा कर डम्प यार्ड में ले जाते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज