अगर मदद के लिए 8 बोट निकली हैं तो 4 पर्यटन के लिए प्रयोग कर रहे हैं मंत्री: नवाब मलिक

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने महाराष्ट्र सरकार की नाकामी गिनाते हुए कहा कि 8 बोट अगर मदद के लिए निकली हैं तो उसमें 4 बोट तो मंत्री अपने पर्यटन के लिए प्रयोग कर रहे हैं.

News18Hindi
Updated: August 9, 2019, 8:46 PM IST
अगर मदद के लिए 8 बोट निकली हैं तो 4 पर्यटन के लिए प्रयोग कर रहे हैं मंत्री: नवाब मलिक
अगर मदद के लिए 8 बोट निकली हैं तो 4 पर्यटन के लिए प्रयोग कर रहे हैं मंत्री: नवाब मलिक (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: August 9, 2019, 8:46 PM IST
महाराष्ट्र में कोल्हापुर और सांगली में बाढ़ की वजह से हजारों लोग घर से बेघर हो गए है. ऐसे में सरकार द्वारा दी जा रही सरकारी मदद को लेकर विपक्ष सवाल उठा रहा है. एनसीपी नेता नवाब मलिक ने सरकार की नाकामी गिनाते हुए कहा कि 8 बोट अगर बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए निकली हैं तो उसमें 4 बोट तो मंत्री अपने पर्यटन के लिए प्रयोग कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि यह जो वीडियो सामने आया है उससे इस बात पर मुहर लग गई है. उन्होंने कहा कि सरकार लोगों की मदद नहीं कर रही है बल्कि लोगों की सेवा में अधिकारियों को लगा कर रखा है. सरकार गंभीर होती तो सर्वदलीय बैठक बुला कर चर्चा करती. उन्होंने कहा कि एनसीपी के सभी विधायक और सांसद अपने एक महीने का वेतन बाढ़ पीड़ितों को मदद के लिए देंगें.

राज्य में अब तक 109 प्रतिशत बारिश हो चुकी है. कोल्हापुर में अब तक 124 प्रतिशत और सांगली में 223 प्रतिशत बारिश हुई है. सतारा में 181 प्रतिशत बारिश हुई है. कोल्हापुर जिले की 8 तहसीलें 239 गांव बारिश की चपेट में हैं. सांगली की 4 तहसीलें और 90 गांव चपेट में बाढ़ की चपेट में हैं. 252813 लोगों को बाढ़ से सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है.

महाराष्ट्र सरकार ने 306 जगहों पर सेल्टर होम शुरु किए गए हैं. खाना, दवा, कपड़ा और खर्च के लिए लोगों को आर्थिक मदद देने के अधिकार जिला अधिकारी को दे दिए गए हैं. आरोग्य के लिए 70 टीमें लगाई गई हैं. एक टीम में एक डाक्टर 3 नर्स हैं. दूषित पानी को साफ करने के लिए एक करोड़ क्लोरीन की गोली दी गई है. नुकसान का आकलन शुरू कर दिया गया है. राज्य में इस साल बारिश से अब तक 144 लोगों की मौत हो चुकी है.

ये भी पढे़ं - 
First published: August 9, 2019, 8:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...