NIA करेगी मनसुख हिरेन हत्याकांड की जांच, UAPA एक्ट के तहत दर्ज किया केस

पुलिस अधिकारी सचिन वाजे

पुलिस अधिकारी सचिन वाजे

Sachin Vaze Case: ठाणे कोर्ट ने बुधवार को आदेश दिए हैं कि महाराष्ट्र एटीएस मनसुख हिरेन हत्याकांड से जुड़े सभी सरकारी दस्तावेजों को एनआईए को जल्द से जल्द दे ताकि एनआईए इस पूरे मामले में अपनी जांच शुरू कर सके. इसके साथ ही जांच एजेंसी ने वाझे पर यूएपीए एक्ट लगा दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 7:30 PM IST
  • Share this:
मुंबई. संदिग्ध कार मामले में कार मालिक मनसुख हिरेन हत्याकांड (Mansukh Hiren Death Case) की जांच अब एनआईए (NIA) करेगी. एनआईए का आरोप है कि इस पूरे मामले में नोटिफिकेशन जारी होने के बाद भी महाराष्ट्र एटीएस के अधिकारी एनआईए को मनसुख हीरेन हत्याकांड से जुड़े सरकारी दस्तावेज एनआईए के अधिकारियों को नहीं दे रहे थे. जिसके बाद एनआईए के आला अधिकारियों ने यह बात महाराष्ट्र के डीजी रजनीश सेठ के सामने भी रखी थी. वहां से कोई जवाब ना आने पर एनआईए के आला अधिकारियों ने यह जानकारी एनआईए स्पेशल कोर्ट को दी.

इसके बाद ठाणे कोर्ट ने बुधवार को आदेश दिए हैं कि महाराष्ट्र एटीएस मनसुख हिरेन हत्याकांड से जुड़े सभी सरकारी दस्तावेजों को एनआईए को जल्द से जल्द दे ताकि एनआईए इस पूरे मामले में अपनी जांच शुरू कर सके. इसके साथ ही जांच एजेंसी ने वाझे पर यूएपीए एक्ट लगा दिया है. इसके तहत वाझे की हिरासत 30 दिनों की हो सकती है. आपको बता दें कि मुंबई के एक पॉश इलाके में संदिग्ध कार मिलने के कुछ ही दिनों बाद कार के मालिक की हत्या हो गई थी. बाद में कार मालिक की जब पहचान हुई तो उनकी शिनाख्त हंस मनसुख हिरेन के रूप में हुई.

Youtube Video




ये भी पढ़ें- सलमान खान ने लगवाई कोरोना वैक्सीन, TWEET कर कहा- 'आज पहला डोज लिया'
मनसुख हिरेन के परिवार ने लगाए हैं वाझे पर आरोप
एनआईए पहले ही संदिग्ध कार में जिलेटिन मिलने के मामले में जांच कर रही है. इस पूरे मामले में एनआईए ने मुंबई पुलिस के सस्पेंडेड एपीआई सचिन वाझे को गिरफ्तार किया है और साथी एनआईए ने सचिन वाझे की कई लग्जरी कारों को भी जब्त किया है. एनआईए को शक है कि इन कारों का इस्तेमाल सचिन वाझे ने साजिश रचने में किया होगा. अब एनआईए यह जांच करना चाहती है कि संदिग्ध कार के मालिक मनसुख हिरेन की हत्या के पीछे कौन लोग शामिल हैं और इस हत्या के पीछे मकसद किया था?

मनसुख हिरेन के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि उनकी हत्या के पीछे मुंबई पुलिस के सस्पेंडेड एपीआई सचिन वाझे ही हैं. जिसके बाद महाराष्ट्र एटीएस ने इस मर्डर केस की जांच की और दो आरोपियों को गिरफ्तार भी किया है. एटीएस को शक है कि इस हत्याकांड के पीछे सचिन वाझे का हाथ हो सकता है. अब ठाणे कोर्ट के आदेश के बाद महाराष्ट्र एटीएस मनसुख हिरेन हत्याकांड से जुड़े सभी सरकारी दस्तावेज जैसे पोस्टमार्टम रिपोर्ट, पंचनामा, गवाहों केस स्टेटमेंट यह सभी दस्तावेज अब एनआईओ को देगी ताकि एनआईए इस पूरे हत्याकांड के मामले की जांच शुरू कर सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज