अपना शहर चुनें

States

महाराष्ट्र संकट: गडकरी बोले- मैं नहीं बनूंगा CM, फडणवीस के नेतृत्व में ही बनेगी सरकार

देवेंद्र फडणवीस और नितिन गडकरी
देवेंद्र फडणवीस और नितिन गडकरी

कहा- सरकार बनाने (Government Formation) को लेकर जल्द ही लिया जाएगा निर्णय, इस पूरे मामले से संघ (RSS) या मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) का कोई लेना देना नहीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2019, 1:58 PM IST
  • Share this:
नागपुर. महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने की खींचतान के बीच पहली बार केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने इस दौरान साफ किया कि सरकार बनाने को लेकर जल्द ही निर्णय लिया जाएगा. उन्होंने इस दौरान मुख्यमंत्री (Chief Minister) पद को लेकर चल रही अटकलों और बयानबाजियों के जवाब में कहा कि यह साफ है कि सरकार का निर्माण देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadanvis) के नेतृत्व में ही किया जाएगा. साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) और संघ प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) का इससे कोई भी संबंध नहीं है.

शिवसेना से चल रही है बातचीत
नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार बनाने को लेकर शिवसेना से लगातार बातचीत का दौर जारी है. हमें यकीन है कि हम शिवसेना के साथ मिलकर ही सरकार का निर्माण करेंगे. वहीं जब उनसे पूछा गया कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के तौर पर उनके नाम की भी चर्चा है तो उन्होंने कहा कि इसकी संभावना नहीं है, मैं अब दिल्ली में ही काम करूंगा.
राउत ने कहा था- फडणवीस नहीं है स्वीकारइससे पहले शिवसेना के वरिष्ठ नेता और सामना के कार्यकारी संपादक संजय राउत ने बीजेपी और खासकर देवेंद्र फडणवीस पर तीखा प्रहार किया था. राउत ने कहा था कि शिवसेना को देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री के तौर पर किसी भी हाल में स्वीकार नहीं हैं. उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा, हां, यह जरूर है कि वो (देवेंद्र फडणवीस) चाहें तो कल ही डिप्‍टी सीएम बन सकते हैं. उन्होंने फडणवीस पर आरोप लगाते हुए कहा कि लंबे समय से हम लोग विरोध झेल रहे हैं लेकिन हमें खत्म करने की बात बोलने वाला कोई नहीं मिला. इन्हें शिवसेना को खत्म करना है, अपने विरोधियों समेत मित्रों को भी खत्म करना है. खुद की ही पार्टी में चुनौती दे रहे नेताओं को खत्म करना है. राउत ने कहा कि अहंकारी का अहंकार खत्म करने का यह सही समय है.शरद पवार महत्वपूर्ण फैक्टरशरद पवार को महाराष्ट्र की राजनीति का महत्वपूर्ण फैक्टर बताते हुए संजय राउत ने कहा कि पवार से बैठक क्यों नहीं होनी चाहिए. उनके पास कितने विधायक हैं यह बात नहीं है. बात है कि पवार के बिना सूबे की राजनीति की कल्पना नहीं की जा सकती है. उन्होंने इस दौरान कॉमन मिनिमम प्रोग्राम (सीएमपी) का जिक्र करते हुए कहा कि यह पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की ओर से ही दिया गया था. राज्य में राष्ट्रपति शासन की जगह पर विपरीत विचारों की पार्टियों को भी साथ में लाया जा सकता है. 




राउत का एक और तंज
राज्यसभा सांसद राउत ने ट्वीट किया, 'तुम्हारे पांव के नीचे कोई जमीन नहीं, कमाल है कि फिर भी तुम्हें यकीन नहीं...' संजय राउत के इस ट्वीट के कई तरह के मायने निकाले जा रहे हैं. समझा जा रहा है कि उनका यह ट्वीट बीजेपी के लिए है. इसके माध्यम से वो बीजेपी को कह रहे हैं कि आपके पास भी सरकार बनाने के लिए पर्याप्त सीटें नहीं हैं.

ये भी पढ़ेंः कहीं इन आंकड़ों में तो नहीं छुपा है शिवसेना की बेचैनी का राज

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज