#SaveDivyansh: नाले में बहे मासूम दिव्यांश का दूसरे दिन भी नहीं लग सका पता

अंबेडकर नगर के गटर में लगातार रेस्‍क्यू टीम और बीएमसी के कर्मचारी तलाश कर रहे हैं. इस दौरान नाले का तेज बहाव भी बचाव कार्य में बाधक बन रहा है.

News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 3:16 PM IST
News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 3:16 PM IST
मुंबई के गोरेगांव में क्षेत्र में बुधवार रात को नाले में गिरे दो साल के मासूम दिव्यांश का शुक्रवार दोपहर तक भी कोई सुराग नहीं लग सका है. अंबेडकर नगर के गटर में लगातार रेस्‍क्यू टीम और बीएमसी के कर्मचारी तलाश कर रहे हैं. इस दौरान नाले का तेज बहाव भी बचाव कार्य में बाधक बन रहा है. समय बीतने के साथ ही दिव्यांश की जान को खतरा भी बढ़ता जा रहा है. वहीं अब लोगों का गुस्सा खुलकर बीएमसी के विरोध में सामने आ रहा है.

बता दें कि बुधवार रात करीब 10 बजकर 40 मिनट पर नन्हा दिव्यांश घर के बाहर खेल रहा था इस दौरान पैर फिसल जाने के चलते वह खुले नाले में जा गिरा था. बाद में पास की मस्जिद पर लगे सीसीटीवी की फुटेज देखने के बाद घटना की जानकारी मिली थी.



पिता ने दी आत्महत्या की धमकी
इस बीच दिव्यांश के परिजन भी सब्र खोते जा रहे हैं. मासूम के पिता सूरज सिंह ने कहा है कि जल्द ही यदि मेरा बेटा मुझे नहीं मिलता तो मैं आत्महत्या कर लूंगा. सूरज ने इस पूरी घटना के लिए बीएमसी को जिम्मेदार बताया है. वहीं बच्चे की मां बाहर के नाले में मासूम की रात भर तलाश करती रही.


Loading...



जिम्मेदार बीएमसी पर होना चाहिए एक्शन
बच्चे के चाचा संदीप सिंह ने कहा, हादसे के लिए पूरी तरह से बीएमसी जिम्मेदार है, बीएमसी के खिलाफ एक्शन होना चाहिए. बच्चे के नाले में गिरने के बाद आस-पास के लोगों ने भी बीएमसी को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि अगर नाला ढका होता तो यह हादसा नहीं होता. लोगों का आरोप है कि बचाव अभियान भी सही वक्त पर शुरू नहीं किया गया.

ये भी पढ़ें - 'बच्चा सो रहा है, नहीं आ सकता... आकर गिरफ्तार कर लो'


देर रात खुले नाले में गिरा 2 साल का बच्चा, सर्च ऑपरेशन जारी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...