विश्व नींद दिवस पर महाराष्ट्र के मंत्री का केंद्र पर कटाक्ष, बताया- 'कुंभकर्ण सरकार'

महाराष्ट्र के मंत्री जयंत पाटिल ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.

महाराष्ट्र के मंत्री जयंत पाटिल ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.

World Sleep day: जल संसाधन मंत्री पाटिल ने एक ट्वीट किया, 'अब तक किसान आंदोलन में 300 से ज्यादा किसानों की जान जा चुकी है. नियमित तौर पर हजारों युवाओं की नौकरियां जा रही हैं.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 6:57 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र के मंत्री जयंत पाटिल ने शुक्रवार को ‘विश्व नींद दिवस’ (World Sleep Day) के मौके पर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए सवाल किया कि इस ‘कुंभकर्ण सरकार’ को किसान आंदोलन, ईंधन की बढ़ती कीमतों और बेरोजगारी के मौके पर कैसे नींद से जगाया जाए. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रदेश प्रमुख ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन के दौरान 300 से ज्यादा किसानों की मौत हो चुकी है.

जल संसाधन मंत्री पाटिल ने एक ट्वीट किया, 'अब तक किसान आंदोलन में 300 से ज्यादा किसानों की जान जा चुकी है. नियमित तौर पर हजारों युवाओं की नौकरियां जा रही हैं. पेट्रोल, डीजल, एलपीजी की कीमतें आसमान छू रही हैं और देश की आर्थिक स्थिति ‘आईसीयू’ में है. कैसे जगाएं कुभकर्ण सरकार को?'

हैशटैग विश्व नींद दिवस. कुंभकर्ण महाकाव्य रामायण में रावण का छोटा भाई था और वह एक साल में करीब छह महीने तक सोता था.

नींद दिवस क्‍या है ?


वर्ल्ड स्लीप सोसाइटी द्वारा विश्व नींद दिवस की स्‍थापना की गई है. इसे 19 मार्च को मनाया जाता है. यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त जागरूकता कार्यक्रम है. विश्व नींद दिवस, मरीजों, रिसर्च करने वालों, सेहत के प्रति जागरूक और हेल्‍थ वर्कर्स के साथ नींद को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ने वाले प्रभावों को जानने-पहचानने के लिए सभी को एक साथ लाता है.

ये भी पढ़ें  Big News: UP, बिहार, झारखंड और पं. बंगाल जाने वाली इन 48 स्पेशल ट्रेनों के परिचालन में हुआ विस्तार, यहां देखें पूरी लिस्ट

ये भी पढ़ेेंं   Covid-19: केवल इन 5 राज्यों से रोज मिल रहे हैं 80% कोविड मामले, महाराष्ट्र में हालात भयानक

नींद की समस्‍याओं से जूझने के साथ ही स्‍वस्‍थ नींद के महत्‍व पर भी ध्‍यान देना इस दिवस को मनाने का मकसद है. यह नींद को लेकर तमाम विकारों और उनकी रोकथाम या प्रबंधन की दिशा में हो रही कोशिशों के बारे में भी जागरूकता करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज