होम /न्यूज /महाराष्ट्र /मिस्त्री की मौत के बाद जागी पुलिस, इस काम के लिए NHAI-PWD को दिया 3 वीक का समय; जानें प्लान

मिस्त्री की मौत के बाद जागी पुलिस, इस काम के लिए NHAI-PWD को दिया 3 वीक का समय; जानें प्लान

महाराष्ट्र: पुलिस ने NHAI, PWD को मुंबई-अहमदाबाद हाईवे पर 3 सप्ताह में गड्ढों को भरने के लिए कहा (साइरस मिस्त्री के हादसे की फाइल फोटो)

महाराष्ट्र: पुलिस ने NHAI, PWD को मुंबई-अहमदाबाद हाईवे पर 3 सप्ताह में गड्ढों को भरने के लिए कहा (साइरस मिस्त्री के हादसे की फाइल फोटो)

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पालघर पुलिस ने हाल के दिनों में व्यस्त मार्ग पर कई दुर्घटनाओं के मद्देनजर अगले तीन सप् ...अधिक पढ़ें

मुंबई: महाराष्ट्र के पालघर में जिस मुंबई-अहमदाबाद हाईवे पर साइरस मिस्त्री की सड़क हादसे में मौत हुई थी, उसे दुरुस्त करने के लिए अब पुलिस नींद से जागी है. टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री की मौत के बाद पुलिस ने एनएचएआई और पीडब्ल्यूडी को मुंबई-अहमदाबाद हाईवे पर 3 सप्ताह में गड्ढों को भरने के लिए कहा है. इतना ही नहीं, हाईवे पर एंबुलेंस से लेकर क्रेन की व्यवस्था कराने का भी निर्देश दिया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पालघर पुलिस ने हाल के दिनों में व्यस्त मार्ग पर कई दुर्घटनाओं के मद्देनजर अगले तीन सप्ताह के भीतर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) और अन्य संबंधित विभागों को मुंबई-अहमदाबाद राजमार्ग पर गड्ढों को भरने के लिए कहा है. मंगलवार को एनएचएआई के अधिकारियों, राजमार्ग रखरखाव ठेकेदारों और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक के दौरान पालघर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक बालासाहेब पाटिल ने उन्हें राजमार्ग पर आवश्यक निर्देश बोर्ड लगाने, वाहन की गति सीमित करने के लिए रंबलर्स, मोटर चालकों के लिए कैट आई लगाने, डेलिनेटर लगाने और गड्ढों को भरने के निर्देश दिए.

पालघर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक बालासाहेब पाटिल ने उन्हें अगले तीन सप्ताह के भीतर इन उपायों को करने के लिए कहा. बैठक में अधिकारियों ने बताया कि पालघर जिला सीमा में हाईवे पर 15 ब्लैक स्पॉट हैं. पाटिल ने कहा कि यह देखा गया है कि घायल लोगों को अस्पताल ले जाने के लिए राजमार्ग पर एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं हैं. उन्होंने संबंधित अधिकारियों को राजमार्ग पर चार स्थानों पर एंबुलेंस की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए.

सड़क सुरक्षा ऑडिट में खराब रखरखाव पर चिंता
इतना ही नहीं, उन्होंने दुर्घटना प्रभावित वाहनों को हाईवे की गलियों से बाहर निकालने के लिए क्रेन उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया. पाटिल ने कहा कि राजमार्ग पर अग्निशमन दल भी उपलब्ध कराया जाएगा. बता दें कि टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री की कार दुर्घटना में मौत जिस राजमार्ग पर हुई थी, उसके सुरक्षा ऑडिट में खराब रखरखाव, चालकों की मदद के लिए अपर्याप्त संकेतकों और संबंधित खंड पर दो दर्जन से अधिक स्थानों पर खुले मार्ग को लेकर चिंता जतायी गई है.

4 सितंबर को हो गई थी साइरस मिस्त्री की मौत
इंटरनेशनल रोड फेडरेशन (आईआरएफ) के भारत चैप्टर की एक टीम द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग-48 पर महाराष्ट्र में मंडोर और गुजरात में अछाड़ के बीच 70 किलोमीटर के खंड का सड़क सुरक्षा ऑडिट किया गया था. मिस्त्री और एक अन्य सह-यात्री की गत चार सितंबर को इस खंड पर कार दुर्घटना में मौत हो गयी थी. फेडरेशन के मानद अध्यक्ष के. के. कपिला ने कहा कि ऑडिट में दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कम लागत वाले तात्कालिक उपायों की सिफारिश की गई है.

Tags: Maharashtra, Palghar

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें