NCP नेता नवाब मलिक बोले- दिल्ली में परमबीर सिंह किससे मिले, वक्त आने पर होगा खुलासा

एनसीपी नेता नवाब मलिक (PTI Photo)

एनसीपी नेता नवाब मलिक (PTI Photo)

NCP नेता और राज्य सरकार में मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह (Parambir Singh) द्वारा लिखे गए पत्र के समय पर भी सवाल उठाए जिसमें पुलिस अधिकारी ने राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) पर आरोप लगाए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 12:00 AM IST
  • Share this:
मुंबई. नेश्नलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) के वरिष्ठ नेता एवं राज्य के मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) ने सोमवार को कहा कि महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) को बदनाम करने की 'साजिश' रची गई है. उन्होंने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह (Parambir Singh) द्वारा लिखे गए उस पत्र के समय पर भी सवाल उठाए जिसमें पुलिस अधिकारी ने राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं.

NCP के राष्ट्रीय प्रवक्ता मलिक ने यह भी कहा कि पार्टी ने यह फैसला किया है कि अभी देशमुख को इस्तीफा देने की कोई जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा, 'देशमुख की किस्मत पर फैसला जांच पूरी होने के बाद लिया जाएगा.'

शरद पवार ने क्या कहा?
इससे पहले, रविवार को NCP अध्यक्ष शरद पवार ने कहा था कि देशमुख के बारे में फैसला मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे लेंगे. उन्होंने कहा था कि परमबीर सिंह ने देशमुख पर जो आरोप लगाए हैं वे गंभीर हैं और इनकी गहराई से जांच करने की आवश्यकता है.
Youtube Video




परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पिछले हफ्ते पत्र लिखकर दावा किया था कि देशमुख ने पुलिस अधिकारियों को 100 करोड़ रूपये की मासिक वसूली करने को कहा है. इस पत्र के बाद राज्य में सियासी तूफान आ गया था. देशमुख ने इन आरोपों से इनकार किया है.

किससे मिले थे परमबीर सिंह?
मलिक ने एक समाचार चैनल से कहा, 'सिंह ने यह पत्र होमगार्ड में अपने तबादले से पहले जारी क्यों नहीं किया? उन्होंने (सिंह ने) दावा किया कि (सचिन) वाजे ने फरवरी के अंतिम हफ्ते में देशमुख से मुलाकात की थी. 15 फरवरी तक देशमुख अस्पताल में थे और 27 फरवरी तक वह घर पर आइसोलेशन में थे.'

उन्होंने बताया कि देशमुख ने लोगों से मिलना जुलना 28 फरवरी से शुरू किया अत: इस पत्र से ‘संदेह’ पैदा होता है. मलिक ने कहा, 'NCP का निर्णय है कि देशमुख की किस्मत पर कोई भी फैसला जांच का निष्कर्ष सामने आने के बाद लिया जाएगा.' उन्होंने आरोप लगाया कि सिंह दिल्ली गए थे और NCP के नेता यह जानते हैं कि वह राष्ट्रीय राजधानी में किससे मिले और क्या चर्चा हुई. मलिक ने आरोप लगाया, 'आने वाले समय में यह सब चर्चा में जरूर आएगा. राज्य सरकार को बदनाम करने के लिए साजिश रची गई.' (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज