डेलकर की मौत की जांच में सहयोग करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दें PM और HM: ठाकरे

दादरा एवं नगर हवेली से सांसद मोहन डेलकर.  फाइल फोटो

दादरा एवं नगर हवेली से सांसद मोहन डेलकर. फाइल फोटो

लोकसभा सदस्य मोहन डेलकर (MP Mohan Delhkar) की मौत की जांच मामले में महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) से आग्रह किया है. ठाकरे ने कहा है कि पीएम मोदी और अमित शाह दादरा एवं नगर हवेली के अधिकारियों को यह निर्देश दें, कि वे मुंबई पुलिस को जांच में सहयोग दें.

  • Share this:
मुंबई.  महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray ने रविवार को कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi)  और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) से दादरा एवं नगर हवेली के अधिकारियों को यह निर्देश देने का आग्रह करेंगे कि वे लोकसभा सदस्य मोहन डेलकर (MP Mohan Delhkar)  की मौत की जांच में मुंबई पुलिस का सहयोग करें. केंद्रशासित प्रदेश के सात बार सांसद चुने गये डेलकर 22 फरवरी को दक्षिण मुंबई के एक होटल के कमरे में मृत मिले थे. वहां से गुजराती में एक सुसाइड नोट भी मिला था.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शाम में यहां संवाददाताओं से कहा, ’मैं प्रधानमंत्री और शाह से अनुरोध करूंगा कि वे वहां के अधिकारियों को निर्देश दें कि जब मुंबई पुलिस के अधिकारी डेलकर की मौत की जांच के सिलसिले में दादरा जाएं, तो वे उनके साथ सहयोग करें.’’

ये भी पढ़ें  मुंबई के होटल में मृत पाए गए दादरा एवं नगर हवेली के सांसद डेलकर, खुदकुशी की आशंका



Youtube Video

13-14 पृष्ठों का सुसाइड नोट में कुछ लोगों के नाम शामिल
राज्य विधानमंडल के 10 दिवसीय बजट सत्र की पूर्व संध्या पर संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा कि निर्दलीय सांसद ने 13-14 पृष्ठों का एक सुसाइड नोट छोड़ा है. भाजपा पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, ’नोट में कुछ लोगों के नाम शामिल हैं.  इस बारे में कोई क्यों नहीं बोल रहा है.’

ये भी पढ़ें  Mohan Delhkar Post Mortem Report: सांसद मोहन डेलकर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई सामने, दम घुटने से हुई मौत

मुख्यमंत्री ने पुलिस द्वारा की जाने वाली जांच की प्रकृति के संबंध में टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा, ’जांच अभी शुरू नहीं हुई है.  लेकिन मैं प्रधानमंत्री और गृह मंत्री से अनुरोध करूंगा कि वे केंद्रशासित प्रदेश में अधिकारियों को निर्देश दें कि जब जांच के लिए मुंबई पुलिस वहां पहुंचे, तो वे सहयोग करें.’



डेलकर की ‘‘संदिग्ध’’ परिस्थियों में मौत पर खामोशी कैसे
इससे पहले दिन में, शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर जिन लोगों ने हंगामा किया था, वे लोकसभा सदस्य मोहन डेलकर की ‘‘रहस्यमय’’ परिस्थितियों में हुई मौत पर खामोश क्यों हैं. शिवसेना के मुखपत्र सामना के साप्ताहिक कॉलम ‘रोकटोक’ में राउत ने कहा कि एक अभिनेता की मौत और एक अभिनेत्री (कंगना रनौत) द्वारा कराए गए अनधिकृत निर्माण को ढहाने के मामले ने खूब सनसनी पैदा की, लेकिन सात बार लोकसभा के सदस्य रहे डेलकर की ‘‘संदिग्ध’’ परिस्थियों में मौत पर खामोशी कैसे छाई है. उन्होंने कहा कि डेलकर, जिनके दिल्ली और गुजरात में मकान हैं, ने सोचा होगा कि मुंबई पुलिस उनके सुसाइड नोट के आधार पर कार्रवाई करेगी और गुनहगार को पकड़ेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज