पुणे BPO गैंगरेप केस: हाईकोर्ट ने उम्रकैद में बदली दोषियों की मौत की सजा

याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने कहा, ‘दोषियों की सजा कम कर दी गई है. अब उन्हें फांसी नहीं दी जाएगी.’

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 8:41 PM IST
पुणे BPO गैंगरेप केस: हाईकोर्ट ने उम्रकैद में बदली दोषियों की मौत की सजा
बंबई हाईकोर्ट ने दोनों दोषियों की सजा बदल दी है (Demo Pic)
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 8:41 PM IST
महाराष्ट्र के पुणे बीपीओ गैंगरेप और हत्या के मामले में बंबई हाईकोर्ट ने सोमवार को दोनों दोषियों की मौत की सजा को उम्रकैद में बदल दिया. दोषियों पुरुषोत्तम बोराटे और प्रदीप कोकडे को 24 जून को फांसी दी जानी थी. लेकिन हाईकोर्ट ने 21 जून को कहा था कि उनके अगले आदेश तक सजा पर अमल नहीं किया जाएगा.

न्यायमूर्ति बी पी धर्माधिकारी और न्यायमूर्ति स्वप्ना जोशी ने दोषियों द्वारा उनकी मौत की सजा पर रोक लगाने की याचिका को स्वीकार किया. सोमवार को याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने कहा, ‘दोषियों की सजा कम कर दी गई है. अब उन्हें फांसी नहीं दी जाएगी.’

दोषियों के वकील युग चौधरी ने पत्रकारों को बताया कि अदालत ने दोनों के जेल में बिताए समय को ध्यान में रखते हुए आदेश में कहा कि उन्हें 35 वर्ष जेल में बिताने होंगे. बता दें, निचली अदालत ने 2012 में दोनों आरोपियों को दोषी ठहराते हुए उन्हें मौत की सजा सुनाई थी.

क्या है मामला?

विप्रो बीपीओ में काम करने वाली एक लड़की के साथ कैब ड्राइवर बोराटे और उसके सहयोगी कोकाडे ने एक नवंबर, 2007 को बलात्कार किया था। बाद में उसके दुपट्टे से गला घोंट कर उसकी हत्या भी कर दी. दोनों ने शव की शिनाख्त से बचने के लिए उसके चेहरे को भी बिगाड़ दिया था.

ये भी पढ़ें--

हनीमून के लिए गई मुंबई और फिर प्रेमी संग मिलकर पति को उतारा मौत के घाट
Loading...

उन्नाव रेप पीड़िता एक्सीडेंट: KGMU ने कहा- स्थिति गंभीर, परिजन चाहें तो कहीं और ले जा सकते हैं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Pune से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 8:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...