लाइव टीवी

पुणे के 3 छात्र साड़ी पहनकर क्यों गए थे कॉलेज? खुद किया खुलासा
Pune News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 22, 2020, 5:49 PM IST
पुणे के 3 छात्र साड़ी पहनकर क्यों गए थे कॉलेज? खुद किया खुलासा
पुणे के रहने वाले आकाश पवार, सुमित होनवाडकर और रुश‍िकेष सनप साड़ी पहनकर कॉलेज पहुंचे थे.

छात्रों (Student) ने कहा, ‘ऐसा कहां लिखा है कि लड़कों को पेंट-शर्ट और लड़कियों को साड़ी, सलवार, कमीज और स्कर्ट ही पहननी चाहिए. ऐसा उन्होंने लैंगिक समानता का संदेश देने के लिए किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2020, 5:49 PM IST
  • Share this:
पुणे. पुणे (Pune) के फर्ग्युसन कॉलेज में नए साल के जश्न के दौरान तीन छात्र साड़ी (Sari) पहनकर क्यों पहुंचे थे. इसको लेकर एक छात्र सुमित होनवाडकर खुलासा किया है. होनवाडकर ने कहा कि वह उन्होंने ऐसा लैंगिक समानता का संदेश देने के लिए किया था. उन्होंने इस बात को अपने परिजनों से भी छुपाया था.

छात्र सुमित होनवाडकर ने कहा, ‘मुझे यकीन था कि अगर मैं साड़ी पहनकर कॉलेज जाऊंगा तो मेरे माता-पिता बुरा नहीं मानेंगे. फिर भी मैंने उनको अपनी योजना नहीं बताई. उन्होंने कुछ दिनों बाद जब एक पारिवारिक मित्र से इसके बारे में सुना तो पिता ने कहा, ‘आपने कॉलेज में साड़ी पहनी थी?’  मैंने तस्वीर देखी. तुम बहुत अच्छे लग रहे थे. होनवाडकर ने कहा, ‘पिता की ये बात सुनकर मेरी आखों में आंसू आ गए थे.’

छात्रों ने लिपिस्टिक भी लगाई थी
बता दें कि 2 जनवरी को पुणे के फर्ग्युसन कॉलेज में 'टाई एंड साड़ी डे' कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. इस दौरान सभी लड़के-लड़कियां सामान्य कपड़ों में नजर आ रहे थे, वहीं तीन लड़के साड़ी पहने हुए थे. उन्हें साड़ी में देख कॉलेज में सभी हैरान थे. साड़ी के साथ उन्होंने मैचिंग के आभूषण और लिपिस्टिक भी लगाई हुई थी. इन तीनों लड़कों का नाम आकाश पवार, सुमित होनवाडकर और रुश‍िकेष सनप था.

तीनों के साथ छात्रों ने ली थी सेल्फी


कॉलेज में छात्रों से जब इसका कारण पूछा गया था तो उन्होंने कहा, ‘ऐसा कहां लिखा है कि लड़कों को पेंट-शर्ट और लड़कियों को साड़ी, सलवार, कमीज और स्कर्ट ही पहननी चाहिए. इसलिए हमने तय किया कि हम साड़ी पहनकर कॉलेज जाएंगे.’

प्रिंसिपल ने भी की छात्रों की सराहनावहीं, फर्ग्यूसन कॉलेज के प्रिंसिपल रविंद्र सिंह परदेशी ने कहा, ‘लैंगिक समानता के बारे में जो उन्होंने संदेश देने की कोशिश की, वह मजबूती से लोगों तक पहुंचनी चाहिए. मैं एक शिक्षक के रूप में 1984 में फर्ग्यूसन कॉलेज से जुड़ा था. इस दौरान कुछ लड़कों को टाई और साड़ी दिवस के लिए साड़ी पहनते देखा था और लड़कियों को सूट पहनते देखा था. लेकिन इस बार यह कार्रवाई महत्पूर्ण थी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Pune से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 5:46 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर