कोरोना योद्धा रेल कर्मचारियों को लगेगी वैक्सीन, रेलवे ने शुरू किया वैक्सीनेशन सेन्टर

टीके की दोनों खुराक लेने के बावजूद सुरक्षित बने रहने के लिए लोगों को मास्क पहनना चाहिए

टीके की दोनों खुराक लेने के बावजूद सुरक्षित बने रहने के लिए लोगों को मास्क पहनना चाहिए

Covid-19 Vaccine: बीएमसी की इजाजत मिलने के बाद इस वैक्सीनेशन सेन्टर की शुरुआत की है, जिसके जरिए रेल कर्मचारियों, सेवानिवृत्त रेल कर्मचारियों और उनके परिवार को वैक्सीन लगाई जाएगी.

  • Share this:
मुंबई. कोरोना (Coronavirus) के चलते घोषित किए गए लॉकडाउन के दौरान अपनी जान की परवाह न करने वाले रेलवे कर्मचारियों (Railway Staff) को वैक्सीन लगाने के लिए रेलवे ने बाकायदा वैक्सीनेशन सेंटर की शुरुआत की है. इस वैक्सीनेशन सेंटर की शुरुआत मुंबई के जगजीवन राम अस्पताल में की गई. इन सेंटर में रेल कर्मचारियों और उनके परिवार को वैक्सीन लगाई जाएगी. रेलवे में इस तरह का यह पहला वैक्सीनेशन सेन्टर है.

दरअसल रेलवे ने अपने कोरोना योद्धा कर्मचारियों को वैक्सीन लगाने के लिए वैक्सीनेशन सेंटर खोलने के लिए बीएमसी से इजाजत मांगी थी, जिसको मंजूर करते हुए बीएमसी ने आज से वैक्सीनेशन सेंटर खोलने की इजाजत पश्चिम रेलवे को दे दी.  वैक्सीनेशन सेन्टर खुलते ही सबसे पहले पश्चिम रेलवे के जीएम आलोक कंसल ने प्रक्रिया का पालन करते हुए वैक्सीन लगवाई. इस वैक्सीनेशन सेन्टर में केंद्र सरकार द्वारा बनाई गई प्रक्रिया का पालन करते हुए रेल कर्मचारी वैक्सीन लगवा सकते हैं.

पश्चिम रेलवे के जीएम आलोक कंसल ने बताया कि कोरोना काल मे बड़ी संख्या में रेल कर्मचारियों ने अपनी जान की परवाह न करते हुए ड्यूटी पर डटे रहे. कुछ इसमें शहीद भी हो गए. ऐसे में रेलवे के बाकी के कर्मचारियों को कोरोना के प्रभाव से बचाने के लिए हमने बीएमसी से वैक्सीनेशन सेन्टर खोलने की इजाजत मांगी थी. हमने बीएमसी की इजाजत मिलने के बाद इस वैक्सीनेशन सेन्टर की शुरुआत की है, जिसके जरिए रेल कर्मचारियों, सेवानिवृत्त रेल कर्मचारियों और उनके परिवार को वैक्सीन लगाई जाएगी.
ये भी पढ़ें:- सिंघु बॉर्डर पर ऑडी कार में आए युवकों ने चलाई गोलियां, लंगर को लेकर था विवाद



दरअसल लॉकडाउन के चलते मुंबई ने फंसे लोगों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए रेलवे और उसके कर्मचारियों ने कोविड खतरे के बावजूद अपनी जान की परवाह न करते हुए बेहद ही अहम भूमिका निभाई थी. फिर चाहे श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाने की बात हो या अत्यावश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों के लिए लोकल ट्रेनें. इस दौरान रेल कर्मचारी बखूबी अपनी ड्यूटी पर डटे रहे. इस दौरान रेलवे के कई कर्मचारियों की कोविड के चलते जान भी चली गई थी. ऐसे में बचे कर्मचारियों को कोरोना से प्रभावित होने से बचाने के लिए उन्हें वैक्सीन लगाने के लिए वैक्सीनेशन सेन्टर की शुरुआत रेलवे ने की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज