कृषि कानून के विरोध में टिकैत 20 फरवरी को महाराष्ट्र के यवतमाल में  ‘किसान महापंचायत’में लेंगे हिस्‍सा 

किसान नेता राकेश टिकैत ने आंदोलन की आगे की रणनीति बना ली है.

किसान नेता राकेश टिकैत ने आंदोलन की आगे की रणनीति बना ली है.

एसकेएम के महाराष्ट्र (Maharashtra) के समन्वयक संदीप गिड्डे ने बताया टिकैत, युदवीर सिंह और एसकेएम के कई अन्य नेता आजाद मैदान में आयोजित होने वाली ‘किसान महापंचायत’ (Kisan Mahapanchayat) को संबोधित करेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2021, 11:07 AM IST
  • Share this:
नागपुर. केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों (Agricultural Law) के खिलाफ दिल्ली से लगी सीमाओं पर 40 किसान संगठनों (Farmers Organization) के विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने बताया है कि किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) 20 फरवरी को महाराष्ट्र के यवतमाल जिले में होने वाली‘किसान महापंचायत’ में हिस्‍सा लेने जा रहे हैं. एसकेएम के महाराष्ट्र के समन्वयक संदीप गिड्डे ने बताया टिकैत, युदवीर सिंह और एसकेएम के कई अन्य नेता 20 फरवरी को यवतमाल शहर के आजाद मैदान में आयोजित होने वाली ‘किसान महापंचायत’ को संबोधित करेंगे.

उन्होंने कहा, टिकैत महाराष्ट्र में किसान महापंचायत की शुरुआत यवतमाल से करना चाहते हैं, जहां कई किसानों ने आत्महत्या की है. ‘किसान महापंचायत’ में विदर्भ और महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों से भी किसानों के आने की संभावना है. महापंचायत के आयोजन के लिए प्रशासन से अनुमति मांगी गई है. यवतमाल के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि आयोजकों ने कार्यक्रम के लिए इजाजत मांगी है.

इसे भी पढ़ें :- राकेश टिकैत की राजस्थान में एंट्री, आज अलवर में होगी महापंचायत, फिर शेखावाटी में देंगे दस्तक



बता दें कि इससे पहले राकेश टिकैत ने कहा कि गाजीपुर बॉर्डर पर किसान क्रांति पार्क बनाया जाएगा. इसकी शुरुआत हम कांटों के जवाब में फूल लगाकर कर चुके हैं. इस पार्क में किसानी झंडा लगाया जाएगा. जल्द ही किसान क्रांति पार्क को मूर्त रूप दिया जाएगा. उन्होंने बताया कि सरकार आंदोलन को लंबा करना चाहती है. किसानों ने भी उसी तरह से रणनीति तैयार कर ली है.
इसे भी पढ़ें :- अक्टूबर तक चलेगा किसान आंदोलन! टिकैत ने कहा-यह होगी आंदोलन की नई रणनीति

बॉर्डर पर रणनीति के तहत आंदोलन चलाया जाएगा. जो किसान आंदोलन स्थल पर सोमवार को पहुंचेगा वह सोमवार को ही घर वापस जाएगा. इस प्रकार आंदोलनकारी आंदोलन पर भी नजर रख सकेंगे और अपने खेत पर भी. ऐसी स्थिति में जरूरत पड़ी तो आंदोलन अक्टूबर से आगे भी चलाया जा सकेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज