BJP-शिवसेना में बढ़ी तल्‍खी, एक शहर में अलग-अलग मंच पर दिखे CM फडणवीस और ठाकरे

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस जहां रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (RPI) के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामदास आठवले के कार्यक्रम में शामिल हुए. वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे स्‍टेट ट्रांसपोर्ट की ओर से लाई जा रहीं इलेक्ट्रिक सिटी बसों के उद्धाटन समारोह में शामिल हुए.

Abhishek Pandey | News18Hindi
Updated: September 6, 2019, 1:26 PM IST
BJP-शिवसेना में बढ़ी तल्‍खी, एक शहर में अलग-अलग मंच पर दिखे CM फडणवीस और ठाकरे
महाराष्‍ट्र में बीजेपी-शिवसेना के बीच तल्‍खी, अलग-अलग मंच पर दिखे ठाकरे और सीएम फडणवीस.
Abhishek Pandey | News18Hindi
Updated: September 6, 2019, 1:26 PM IST
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) की सत्ता पर काबिज बीजेपी (BJP) और शिवसेना (Shiv sena) के बीच सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. इसका अनुमान इस बात से लगाया जा रहा है कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) एक ही दिन, एक ही शहर में हुए दो बड़े कार्यक्रमों में अलग-अलग मंचों पर नजर आए.

साफ है कि कहीं न कहीं बीजेपी और शिवसेना के बीच तल्खी कायम है. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Election) के ठीक पहले बीजेपी-शिवसेना के बीच सीट बंटवारे को लेकर समानता नहीं बन पाई है. यही कारण है कि दोनों ही प्रमुख नेता एक-दूसरे के साथ एक मंच पर नजर नहीं आए. मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस जहां रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (RPI) के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामदास आठवले के कार्यक्रम में शामिल हुए. वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे स्‍टेट ट्रांसपोर्ट की ओर से लाई जा रहीं इलेक्ट्रिक सिटी बसों के उद्धाटन समारोह में शामिल हुए.

सीट बंटवारे पर फंसा है पेंच
विधानसभा चुनाव के ठीक पहले बीजेपी और शिवसेना के बीच पहले दौर की बैठक हुई जिसमें सीट बंटवारे को लेकर सामंजस्य नहीं बन पाया. 288 सीटों वाली महाराष्ट्र विधानसभा में बीजेपी 160 सीटों पर लड़ना चाहती है. जबकि वो शिवसेना के लिए 110 सीटें ही छोड़ना चाहती है. साथ ही सहयोगी पार्टियों को 18 सीटें देना चाहती है. जबकि शिवसेना चाहती है कि सहयोगियों से बची सीटों पर बीजेपी और शिवसेना के बीच 50-50 का फॉर्मूला लागू हो.

अमित शाह ने लोकसभा चुनाव से पहले इसी साल के शुरुआत में उद्धव ठाकरे के साथ मुंबई में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बराबर-बराबर सीटों पर विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की थी (फाइल फोटो)


हाल ही में बीजेपी द्वारा कराए गए इंटरनल सर्वे में पता चला है कि अगर बीजेपी-शिवसेना दोनों मिलकर लड़ती हैं तो महाराष्ट्र में उनके गठजोड़ को 229 सीटें मिल सकती हैं. लेकिन अगर बीजेपी अलग लड़ती है तो करीब 160 सीटें उसे मिल सकती हैं. यही कारण है कि बीजेपी शिवसेना को आधे-आधे के बजाय कुछ कम सीटें देना चाह रही है.

दूसरी तरफ शिवसेना लोकसभा चुनाव 2019 से पहले हुई बातचीत का हवाला देते हुए बीजेपी को याद दिला रही है कि विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी और शिवसेना के बीच 50-50 का फॉर्मूला तैयार हुआ था. अब बीजेपी को अपने दिए उस फॉर्मूले पर कायम रहना चाहिए.
Loading...

ये भी पढ़ें

तिहाड़ में चिदंबरम ने किया पोहा-चाय का नाश्‍ता, आज देंगे विज़िटर्स के नाम

अलका लांबा ने आम आदमी पार्टी से दिया इस्तीफा, कर सकती हैं कांग्रेस जॉइन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 12:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...