ATS को भारी मात्रा में मिले विस्फोटक, दक्षिणपंथी हिंदू संगठन का सदस्य गिरफ्तार

एटीएस की टीम आरोपी को लेकर मुंबई लौट आयी है. उससे पूछताछ की जाएगी.

पीटीआई
Updated: August 10, 2018, 4:11 PM IST
ATS को भारी मात्रा में मिले विस्फोटक, दक्षिणपंथी हिंदू संगठन का सदस्य गिरफ्तार
सांकेतिक तस्वीर
पीटीआई
Updated: August 10, 2018, 4:11 PM IST
महाराष्ट्र में एंटी टैरेरिज्म स्क्वॉड (ATS) ने एक दक्षिणपंथी हिंदू विचारधारा के संदिग्ध सदस्य को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने कहा है कि पालघर जिले में नालासोपारा इलाके में इसके घर से भारी मात्रा में विस्फोटक पदार्थ मिले हैं.

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि 'हिंदू गोवंश रक्षा समिति' के सदस्य वैभव राउत को गुरुवार को नालसोपारा पश्चिम में भंडार अाली से गिरफ्तार किया गया. उन्होंने कहा, "एटीएस के अधिकारियों ने उसके घर पर छापा मारा जहां उन्हें उन्हें बम समेत भारी मात्रा में विस्फोटक मिले है."

उन्होंने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और इस बात की पुष्टि की जा रही है कि क्या विस्फोटक में आरडीएक्स भी है. उन्होंने बताया कि एटीएस की टीम आरोपी को लेकर मुंबई लौट आयी है. उससे पूछताछ की जाएगी. शुक्रवार को दोपहर बाद आरोपी को अदालत में पेश किये जाने की संभावना है.

एक बयान में हिंदू जनजागृति समिति ने राउत की गिरफ्तारी को 'मालेगांव पार्ट टू' करार दिया है. बता दें कि महाराष्ट्र के मालेगांव के अंजुमन चौक और भीकू चौक पर 29 सितंबर 2008 को बम धमाके हुए थे. इनमें छह लोगों की मौत हो गई थी और 101 लोग घायल हुए थे. इन धमाकों में एक मोटरसाइकिल इस्तेमाल की गई थी.

हिंदू जनजागृति समिति के राज्य आयोजक सुनील घनवत ने कहा, "वैभव राउत एक गौ रक्षक हैं. वो हिंदू गोवंश रक्षा समिति के लिए काम करते हैं. वो हिंदू जनजागृति समिति के कार्यक्रमों और आंदोलनों में भाग लेते थे.'' हालांकि, उन्होंने दावा किया कि पिछले कुछ महीनों से राउत ने किसी भी कार्यक्रम में भाग नहीं लिया था "

घनवट ने कहा कि हिंदू संगठन के कार्यकर्ताओं को फर्जी मामले में फंसाकर उन्हें अनावश्यक परेशान किया जाना कोई नई बात नहीं है. उन्होंने कहा, ‘आज प्रसारित खबरों को देखते हुए संदेह होता है कि वैभव राउत की गिरफ्तारी क्या मालेगांव भाग-दो मामला है?’

ये भी पढ़ें:

बरेली: कांवड़ यात्रा में बवाल के डर से पलायन कर गई इस गांव की आधी मुस्लिम आबादी

आरुषि मर्डर केस : पिछले 10 साल में देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री में क्या हुआ?
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर