राज्यपाल कोश्यारी को लेकर अमित शाह के बयान पर संजय राउत ने जताया आभार

संजय राउत ने साथ ही कहा, 'मुझे लगता है कि ये विवाद खत्म हो गया है.' (फाइल)
संजय राउत ने साथ ही कहा, 'मुझे लगता है कि ये विवाद खत्म हो गया है.' (फाइल)

संजय राउत ने News18 से खास बातचीत में कहा, 'गृहमंत्री अमित शाह ने भी ये माना है कि राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को जो पत्र लिखा, उसमें गलत शब्दों का इस्तेमाल किया. यह बहुत अच्छी बात है. गृह मंत्री के बयान से हम संतुष्ट हैं और आभारी भी हैं.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2020, 11:42 AM IST
  • Share this:
महाराष्ट्र (Maharastra) में मंदिरों को खोलने को लेकर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) को लिखे गए हालिया पत्र को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बयान पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने आभार जताया है.

संजय राउत ने News18 से खास बातचीत में कहा, 'गृहमंत्री अमित शाह ने भी ये माना है कि राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को जो पत्र लिखा, उसमें गलत शब्दों का इस्तेमाल किया. यह बहुत अच्छी बात है. गृह मंत्री के बयान से हम संतुष्ट हैं और आभारी भी हैं.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि राज्यपाल का नेतृत्व गृह मंत्रालय ही करता है. मुझे आशा है कि देश के सभी राज्यों के राज्यपाल को निर्देश दिए जाएंगे कि सरकार किसी की भी हो, संबंध और व्यवहार एक जैसा होना चाहिए. राउत ने साथ ही कहा, 'मुझे लगता है कि ये विवाद खत्म हो गया है.'



दरअसल अमित शाह ने Network18 ग्रुप के एडिटर-इन-चीफ राहुल जोशी के साथ एक खास इंटरव्यू (exclusive interview) में कहा कि कोश्यारी अपने शब्दों का और बेहतर ढंग से इस्तेमाल कर सकते थे. कोश्यारी ने मुख्यमंत्री ठाकरे को लिखे पत्र में तंजिय लहजे में सवाल किया था कि क्या आप धर्मनिरपेक्ष (Secular) हो गये हैं.

राज्यपाल ने उद्धव ठाकरे को 'हिंदुत्व का मजबूत समर्थक' बताते हुए अपने पत्र में लिखा था कि उन्हें आश्चर्य हो रहा है कि क्या सीएम को 'पूजा के स्थानों के फिर से खोले जाने के कदम को स्थगित रखने के लिए कोई दैवीय आदेश मिल रहा है. या फिर आप खुद को 'धर्मनिरपेक्ष' बना चुके हैं. एक शब्द जिससे आप नफरत करते थे?'

कोश्यारी के इन शब्दों पर कड़ी आपत्ति जताते हुए ठाकरे ने एक दिन बाद कोश्यारी को जवाब दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें किसी से भी हिंदुत्व का पाठ सीखने की आवश्यकता नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज