लॉकडाउन के डर से अब मुंबई में शुरू हुआ प्रवासी मजदूरों का पलायन, रेलवे स्टेशन पर भारी भीड़

मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर प्रवासी मजदूरों की काफी भीड़ देखी जा रही है (PTI)

मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन पर प्रवासी मजदूरों की काफी भीड़ देखी जा रही है (PTI)

Coronavirus in India: गुजरात, महाराष्ट्र (Maharashtra) और केरल जैसे देश के हॉटस्पॉट राज्यों में रहकर काम कर रहे मजदूरों ने अपने गांव लौटना शुरू कर दिया है. वहीं, सूरत और मुंबई से आ रही रेलगाड़ियां भी पूरी भरी हुई नजर आ रही हैं.

  • Share this:
मुंबई. बीते साल 2020 में कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) की शुरुआत की तस्वीरें दोबारा एक-एक कर सामने आने लगी हैं. मार्च में मामलों का बढ़ना, फिर सरकार का पाबंदियों का ऐलान करना. इसी बीच देश के अलग-अलग हिस्सों से आकर बड़े शहरों में नौकरी करने वाले मजदूरों ने भी पलायन करना शुरू कर दिया है. मुंबई में काफी तादाद में प्रवासी मजदूर अपने घरों को लौट रहे हैं. रेलवे स्टेशन पर भारी भीड़ देखी जा रही है. प्रवासी मजदूर (Migrant Labour) वही वर्ग है, जो पिछले साल यात्रा सेवाएं बंद होने के कारण पैदल या अलग-अलग तरीकों से अपने गांव तक पहुंचा था. देश के कई हिस्सों से मजदूरों की घर वापसी की खबरें आ रही हैं.

झारखंड में भी लौट रहे मजदूरों की संख्या बढ़ी है. यहां हर रोज सैकड़ों की संख्या में प्रवासी मजदूर महाराष्ट्र, पंजाब, दिल्ली और तेलंगाना से लौट रहे हैं. ओडिशा के गंजम जिले में भी यही हाल हैं. गुजरात, महाराष्ट्र और केरल जैसे देश के हॉटस्पॉट राज्यों में रहकर काम कर रहे मजदूरों ने अपने गांव लौटना शुरू कर दिया है. वहीं, सूरत और मुंबई से आ रही रेलगाड़ियां भी पूरी भरी हुई नजर आ रही हैं. कहा जा रहा है कि पांच राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव भी मजदूरों के वापस आने का बड़ा कारण बन रहा है.

यह भी पढ़ें: फिर नजर आईं 2020 की तस्वीरें, लॉकडाउन के डर से घर लौट रहे प्रवासी मजदूर



कर्नाटक में काम कर रहे कई मजदूर मतदान के लिए अपने गांव वापस चले गए हैं. साथ ही वे संभावित पाबंदियों के चलते वापस लौटने को भी अनिच्छुक हैं. झारखंड के गोविंद कुमार गिरिध जिले से आते हैं. वे मुंबई के एक कॉफी शॉप में बीते पांच सालों से काम कर रहे हैं. बीते गुरुवार को उनकी सैलरी का एक बड़ा हिस्सा घर वापसी के लिए हवाई टिकट खरीदने में खर्च हो गया. वे बताते हैं 'यहां 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू जारी है. इसलिए मुझे घर वापस जाने के लिए कहा. उन्होंने कहा है कि वे हालात सामान्य होने पर मुझे बता देंगे.'

हालांकि, कोविड का डर ही बड़ा कारण नहीं है. कर्नाटक में कुछ लोग कटाई के मौसम के लिए घर चले गए हैं. जबकि, तमिलनाडु, केरल, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और ओडिशा में लोग आगामी त्यौहारों के लिए पहुंच रहे हैं. अनुमान लगाया जा रहा है कि करीब 8 लाख लोग वापस चले गए हैं और यह संख्या बढ़ती जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज