शरद पवार ने अनिल देशमुख को लगाई थी फटकार, कहा था- बहुत शिकायतें आ रही हैं आपकी: रिपोर्ट

एनसीपी नेताओं से पहले कांग्रेस नेता कमलनाथ और एनसीपी प्रमुख संजय राउत ने पवार के साथ बैठक की थी.

एनसीपी नेताओं से पहले कांग्रेस नेता कमलनाथ और एनसीपी प्रमुख संजय राउत ने पवार के साथ बैठक की थी.

Maharashtra: मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह ने दावा किया है कि अनिल देशमुख ने सचिन वाजे को 100 करोड़ रुपये का टारगेट दिया था. परमबीर सिंह की चिट्ठी पर विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने गृह मंत्री से इस्तीफा मांगा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 21, 2021, 8:26 AM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र की राजनीति में इस वक्त घमासान मचा है. लगातार आरोपों में घिर रहे राज्य के गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) इस्तीफा दे सकते हैं. मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह (Parambir Singh) ने अनिल देशमुख पर सनसनीखेज आरोप लगाते हुए कहा है कि उन्होंने सचिन वाजे को हर महीने उगाही करके सौ करोड़ रुपये पहुंचाने को कहा था. कहा जा रहा है कि NCP सुप्रीमो शरद पवार भी देशमुख से बेहद नाराज़ हैं. ऐसे वे किसी भी वक्त इस्तीफा दे सकते हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दो दिन पहले दिल्ली में अनिल देशमुख को तलब किया गया था. इस बैठक में शरद पवार के अलावा शिवसेना के सांसद संजय राउत भी मौजूद थे. कहा जा रहा है कि इस बैठक के दौरान पवार ने देशमुख को फटकार लगाई थी. पवार ने देशमुख से कहा था कि आपकी बहुत ज्यादा शिकायतें मिल रही हैं. दावा किया जा रहा है कि पवार ने इस बैठक में इस बात के भी संकेत दिए थे कि देशमुख को गृहमंत्री के पद से हटाया जा सकता है.

अनिल देशमुख की धमकी
अनिल देशमुख ने शनिवार को कहा कि वो भ्रष्टाचार के आरोप लगाने के लिये मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज कराएंगे. इससे पहले देशमुख ने ट्वीट कर सिंह के इस आरोप को खारिज कर दिया कि उन्होंने पुलिस अधिकारियों को बार, रेस्टोरेंट और अन्य प्रतिष्ठानों से हर महीने 100 करोड़ रुपये वसूलने के लिये कहा था. देशमुख ने एक बयान में सिंह से ये भी पूछा कि वो इतने लंबे समय तक क्यों चुप रहे.




इस्तीफे की मांग
महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उनसे इस्‍तीफा मांगा है. हालांकि, महाराष्ट्र मुख्यमंत्री कार्यालय ने इसपर कहा कि परमबीर सिंह का पत्र आधिकारिक इमेल आईडी से प्राप्‍त नहीं हुआ है और ना ही उसपर उनके हस्‍ताक्षर हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज